फैमिली आईडी कार्ड में सबसे कम आय भरने वालों के घरों में जाकर स्थिति जांचेंगी टीम

फतेहाबाद । जिले में फैमिली आईडी बनाने का 94 फीसदी तक काम पूरा हो गया है. अब अगले महीने में इसके सत्यापन का कार्य किया जाएगा. गठित टीम उन घरों में जाकर स्थिति जाचेगी . जिन्होंने  अपनी आय कम दिखाई है. टीम में शामिल कर्मचारी देखेंगे कि वास्तव में दी गई जानकारी के अनुसार परिवार की वास्तविक हालात है या नहीं. अक्सर लोग सरकारी योजनाओं का लाभ उठाने के लिए अपनी आय कम दिखाते हैं.

FAMILY ID

फैमिली आईडी में भरी गई आय की चेकिंग की जाएगी 

यदि फैमिली आईडी में भरी कोई जानकारी गलत मिली, तो  उसे भी ठीक करेंगे. जिला प्रशासन के अनुसार प्रदेश में 100000 परिवार के घरों में जाकर उनकी वास्तविक स्थिति का पता लगाया जाएगा. फैमिली आईडी के नोडल अधिकारी मुकेश कुमार का कहना है कि यह तो तय हो गया कि कम आय दिखाने वालों के घरों मे टीमें जाएंगी. कम आय वालों में रेड मंडली चयन किया जाएगा. जिस से प्राप्त डांटा निदेशालय से जिला प्रशासन को भेजा जाएगा.

यह भी पढ़े -   15 मई से पहले धान की बिजाई ना करें किसान, वर्ना होगी कार्रवाई

इसके लिए सभी जरूरी तैयारियों को पूरा करते हुए उच्च अधिकारियों से अवगत करवाया जाएगा. जिले की तीनों विधानसभा में 700 वोटिंग बूथ है. प्रशासन के अनुसार इसके लिए कमेटी गठित की गई है. बता दें कि इस कमेटी में शिक्षा विभाग का एक कर्मचारी के अलावा,कंप्यूटर ऑपरेटर, समाजिक कार्यकर्ता,कॉलेज का विद्यार्थी, वॉलिंटियर आदि शामिल होंगे. इनको सर्वे के लिए पहले ट्रेनिंग दी जाएगी. सरकार द्वारा सैंपलिंग के लिए सूची आने के बाद गठित टीम अपना काम शुरू कर देंगे. इसमें कॉलेज के विद्यार्थी व कंप्यूटर ऑपरेटर को छोड़ दें, तो गठित टीम ने पहले भी दो बार सर्वे किया है. एक बार तो कोरोना काल में राशन के लिए सर्वे किया गया था.  इसके बाद हैल्थी हरियाणा के लिए भी टीम ने सर्वे किया था.

यह भी पढ़े -   लॉकडाउन की पहली सुबह रोहतक में रही अफरातफरी, बाजारों में दिखी भारी भीड़

पटवारी फैमिली आईडी के लिए करेंगे जातीय गणना 

जिले में पटवारी फैमिली आईडी के लिए जातीय गणना करेंगे. जिन लोगों ने अपनी फैमिली आईडी बनवाई है उनकी जाति भरेंगे. बता दे कि पहले जो फैमिली आईडी बनवाई गई थी उसमें ऐसा कोई ऑप्शन नहीं था. इसके लिए भी गत दिनों की पटवारियों को ट्रेनिंग दी जाएगी. जिले मे 94 फ़ीसदी लोगों के फैमिली आईडी बन चुकी है.

यह भी पढ़े -    बेरोजगारी दर के मामले में अव्वल हरियाणा, सारे रिकॉर्ड तोड़ मई में भी नंबर वन

फैमिली आईडी बना रहे प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि जिले में 954837 लोगों की फैमिली आईडी बनानी थी. जिनमें से 904137 लोगों की फैमिली आईडी बन चुकी है. अब मात्र 50700 लोगों की फैमिली आईडी बनाई जानी बाकी है. जिलों में 5 श्रेणी ओपीएच, एएवाई, एसबीपीएल व एसबीपीएल के 153816 राशन कार्ड धारक है. इनमें करीब 100000 लोगों को मुक्त राशन वितरित किया जाता है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!