विदेश में पढ़ाई के लिए लेना है एजुकेशन लोन, तो इन बातों का रखें खास ध्यान

नई दिल्‍ली | बच्चों की पढ़ाई खर्च दिन- प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है. उस पर से विदेश जाकर पढ़ने का खर्च तो कई गुना ज्यादा बढ़ जाता है. हालांकि, फॉरेन एजुकेशन के लिए सरकारी और प्राइवेट बैंक और नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियां लोन उपलब्‍ध कराती हैं. जिससे बहुत से छात्रों का विदेशों में पढ़ाई का सपना साकार होता है.

Digital Learning Students

लेकिन, हर किसी को विदेशों में पढ़ाई के लिए एजुकेशन लोन नहीं मिलता. क्योंकि यह एक बहुत बड़ी रकम होती है, इसलिए बैंक लोन देने से पहले पूरी जांच-पड़ताल करते हैं और अपनी नियम और शर्तों पर खरा उतरने वाले कैंडिडेट को ही फॉरेन एजुकेशन के लिए लोन देते हैं. तो अगर आपका इरादा भी एजुकेशन लोन लेने का है तो लोन अप्‍लाई करने से पहले आपको पहले इसके सभी पहलुओं पर गौर करके इसके नफा-नुकसान को देखना चाहिए. इसके बाद ही इसके लिए अप्‍लाई करना चाहिए.

किन- किन खर्चों के लिए दिया जाता है लोन

ज्यादातर बैंक ट्यूशन फीस, रहने के खर्च, हेल्थ इंश्योरेंस और स्टडी मैटेरियल का खर्च एजुकेशन लोन में शामिल करते हैं. इस लोन में आपको हवाई जहाज का किराया, लैपटॉप और स्टेशनरी, स्टडी टूर, प्रोजेक्ट वर्क और थिसिस पर होने वाले खर्च को ध्‍यान में रखकर लोन दिया जाता है. लेकिन फिर भी आपको लोन लेने पहले पता करना चाहिए कि एजुकेशन लोन में कौन-कौन से खर्चे शामिल हैं, और किन खर्चों का इंतजाम आपको करना है. हालांकि, एजुकेशन लोन में पर्सनल खर्च जैसे कार या बाइक लेना और कोर्स के दौरान वापस घर आने और वापस जाने में होने वाला खर्च शामिल नहीं होता.

यह भी पढ़े -   पर्सनल लोन चाहिए तो अच्छा सिबिल स्कोर है जरूरी, जानें चेक करने की पूरी प्रक्रिया

बैंकों की ब्‍याज दरों की करें जांच

लोन लेने से पहले लोन के ब्‍याज दरों की जांच जरुर कर लें. क्‍योंकि ब्‍याज दर से ही आप अंदाजा लगा सकते हैं कि आप समय पर यह कर्ज वापस कर सकते हैं या नहीं. हर बैंक की ब्याज दर अलग – अलग होती है, जैसे –

  • सरकारी बैंक सात साल की अवधि के लिए 20 लाख रुपये के एजुकेशन लोन पर 6.85 से 8.20 फीसदी ब्‍याज ले रहे हैं.
  • प्राइवेट बैंक एजुकेशन लोन पर 8.45 फीसदी से 14.25 फीसदी ब्‍याज लेता है. जिसमें एसबीआई का इंटरेस्ट रेट 7.25 फीसदी, केनरा बैंक का 7.30 फीसदी और बैंक ऑफ बड़ौदा का 7.45 फीसदी है. आईसीआईसीआई बैंक और एक्सिस बैंक जैसे प्राइवेट बैंक 10.50 से 13.70 फीसदी इंटरेस्ट लेते हैं.
यह भी पढ़े -   हरियाणा: स्कूलों में नशा करके आने वाले शिक्षकों की अब खैर नहीं, दर्ज होगी एफआईआर

सोच- समझकर करें लोन अवधि का निर्धारण

लोन लेने से पहले आपको लोन कितने वर्षों में चुकाना है, यह जानना बेहद जरूरी है. इसलिए लोन लेने से पहले उसकी अवधि का निर्धारण बहुत सोच-समझकर करना चाहिए. बता दें कि एजुकेशन लोन की रिपेमेंट की अधिकतम अवधि 15 साल है. इसलिए लोन लेने से पहले आपको पता होना चाहिए कि आप कितने वर्षों में यह लोन चुका पाएंगे.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!