कोरोना के बाद बढ़ती मंहगाई ने निकाला आम आदमी का तेल, पढ़े स्पेशल रिपोर्ट

गुरुग्राम । साइबर सिटी गुरुग्राम में लगातार बढ़ती मंहगाई से जनता के बीच त्राहि- त्राहि मची हुई है. डीजल पेट्रोल के दाम पहले ही शिखर पर है और अब रोजमर्रा के कामों में इस्तेमाल होने वाली चीजों सरसों तेल, रिफाइंड,दाल, सब्जी आदि के दाम भी आसमान छू रहे हैं. वहीं आम जनता का कहना है कि कांग्रेस के घोटालों से तंग आकर तो उन्होंने मोदी जी को वोट दिया था लेकिन अब मोदी सरकार भी कांग्रेस के कदमों पर चलने लगी है. कोरोना महामारी ने पहले ही आम आदमी का जीना दुश्वार किया हुआ है, ऐसे में बढ़ती मंहगाई ने भी अब आग में घी डालने का काम किया है.

यह भी पढ़े -   शख्स ने छपवाया शादी का अनोखा कार्ड, पूरी बात जानकर रह जाएंगे दंग

shop dukan

वहीं मार्केट में खरीददारी करने आई महिलाओं से बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि पहले वो बाजार से सरसों का तेल, रिफाइंड आदि की 15 किलों की पैकिंग लेकर जाती थी लेकिन अब 2 से 5 किलों तक का डिब्बा ही खरीद रहे हैं. आम आदमी कह रहा है कि सरसों के तेल का भाव तो इंटरनेशनल मार्केट पर निर्भर नहीं है लेकिन फिर भी दाम आसमान को छू रहे हैं. जो सरसों का तेल 3-4 महीने पहले 100 रुपए प्रति लीटर था वो आज 190-200 रुपए प्रति लीटर तक जा पहुंचा है. रिफाइंड तेल के 15 लीटर के टीन का भाव 1200 रुपए था जो अब बढ़कर 2200 से 2300 रुपए प्रति 15 लीटर टीन बीक रहा है.

वहीं इसमें गौर करने वाली बात यह भी है कि इस विकराल रूप धारण की हुई महंगाई के पीछे हर रोज बढ़ती पेट्रोल डीजल की कीमतें है या फिर जमाखोरी का काला कारोबार …. यानि किसान जिस बात पर जोर देते हुए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं कि अगर मंडियां प्राईवेट हुईं तो इसका खामियाजा आम आदमी को भी भुगतना पड़ेगा, जैसे कारण तो नहीं है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!