टूटा सपना: देश की पहली एयर टैक्सी पर साढ़े छः महीने में लगा ब्रेक,यह रही प्रमुख वजह

हिसार । हिसार स्थित महाराजा अग्रसेन एयरपोर्ट पर पहली हवाई यात्रा शुरू करने वाली देश की पहली स्टार्टअप कंपनी एयर टैक्सी ने हिसार एयरपोर्ट से अपने काम को बंद करने का फैसला लिया है. 3 अगस्त से कंपनी की ओर से एक भी फ्लाईट ने उड़ान नहीं भरी हैं . कंपनी ने यह निर्णय भी उस समय में लिया है जब हिसार से चंडीगढ़, देहरादून और धर्मशाला जाने के लिए सवारियों की भी कमी नहीं थी.

FLIGHT

अभी तक एयर टैक्सी को हवाई यात्रा के भविष्य के तौर पर देखा जा रहा था क्योंकि केवल कार टैक्सी के किराए में ही लोग इसके माध्यम से एक शहर से दूसरे शहर की यात्रा का लुत्फ उठा रहे थे लेकिन कंपनी के इस फैसले के इस फैसले से सभी को हैरानी हुई है. कंपनी के पदाधिकारियों ने बताया कि अभी तक यानि साढ़े छः महीने के भीतर उन्हें दो करोड़ रुपए से भी अधिक का नुक़सान हो चुका है. कंपनी प्रबंधन ने कहा है कि अगर एक महीने के दौरान उनकी समस्याओं का समाधान नहीं हुआ तो कंपनी सभी जगहों से अपने दफ्तर भी बंद कर लेगी. बता दें कि साढ़े छः महीने पहले ही हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने चंडीगढ़ से एयर टैक्सी की पहली फ्लाइट का शुभारंभ किया था.

यह भी पढ़े -   राहत: हरियाणा में बारिश से खराब फसलों की होगी विशेष गिरदावरी, किसानों को मिलेगा मुआवजा

एयर टैक्सी बंद होने का यह रहा कारण

एयर टैक्सी स्टार्टअप के डायरेक्टर कैप्टन वरुण सुहाग ने बताया कि उन्हें हिसार से अपना काम बंद करने का बेहद दुःख है. उन्होंने काम बंद करने के पीछे की वजह बताते हुए कहा कि नागर विमानन महानिदेशालय और एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया की कार्य प्रणाली अनुकूल नहीं बैठी. उनकी कंपनी ने जब यहां काम शुरू किया था तब उड़ान के लिए 1500 मीटर का नियम था लेकिन कुछ दिनों बाद ही अथोरिटी ने इस नियम में बदलाव कर इसे 5 किलोमीटर कर दिया.

पत्रों का नही मिलता जवाब

डायरेक्टर वरुण सुहाग ने बताया कि उन्होंने कई बार अपनी परेशानियों से सरकार को अवगत कराया लेकिन जबाब ही नहीं आते हैं. ऐसे में सरकार के लचीले रवैए से तंग आकर हमने हिसार से काम बंद करने का फैसला लेना पड़ा. हमें लगातार आर्थिक नुकसान हो रहा था. अथोरिटी को छोटी फ्लाइटों की उड़ान आसान बनाने की दिशा में काम करना चाहिए था. इसके अलावा हमें उड़ान के लिए जो धनराशि सरकार की ओर से मिल रहीं थीं , उसमें भी लेट लतीफी हों रही थी.

यह भी पढ़े -   भगवान शिव के मंदिर में रहस्यमई तरीके से गर्म हो रही है धरती, ग्रामीणों की लगी भीड़

इंस्ट्रुमेंट लैंडिंग सिस्टम भी नहीं

हिसार में धूल की वजह से विजिबिलिटी अक्सर कम ही रहती है , ऐसे में एयरपोर्ट प्रशासन को यहां कम से कम इंस्ट्रुमेंट लैंडिंग सिस्टम लगाना चाहिए था लेकिन वह सुविधा भी हमें यहां नहीं मिली. ऐसे में इन नियमों को लेकर एयर टैक्सी कितने दिन चल पाती.

यह भी पढ़े -   रेलवे का बड़ा फैसला, ट्रेनों मे स्लीपरो की जगह लगेगे थर्ड एसी इकोनामी कोच

30 करोड़ का किया था निवेश

कंपनी ने शुरुआती तौर पर इस बिजनेस में 30 करोड़ रुपए का निवेश किया था जिसमें 20 करोड़ के चार हवाई जहाज भी शामिल रहे. कंपनी की कोशिश थी कि देश के हर बड़े शहर को एयर टैक्सी से जोड़ा जाएं . मगर प्रबंधन का कहना है कि जब तक भारत में एयर टैक्सी जैसे छोटे जहाजों के लिए अलग से नियम नहीं बनते ,तब तक यह काम आगे नहीं बढ़ पाएगा.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!