अब हरियाणा के सभी टोल टैक्स नाके हो जायेंगे बंद, जाने क्यों

करनाल । नेशनल हाईवे पर लगे टोल बैरियर वाहनों की स्पीड में बाधा नहीं बनेंगे. बता दें कि पानीपत -अंबाला- अमृतसर हाईवे पर मल्टीलेन फ्री टेक्निक का ट्रायल किया जा रहा है. इस ट्रायल के लिए हाईवे के चयनित स्थानों पर आईडी रीडर्स व कैमरे भी लगाए जा रहे हैं. इस तकनीक से बिना रुके ही वाहनों पर लगे फास्टैग से ऑटोमेटिक टोल का भुगतान हो जाएगा. वही तकरीबन 2 महीने से मल्टीलेन फ्री फ्लो तकनीक की टेस्टिंग पर भी कार्य किया जा रहा है. जल्द ही राष्ट्रीय राजमार्गों पर टोल टैक्स एकत्रीकरण कि यह आधुनिक प्रक्रिया शुरू हो जाएगी.

यह भी पढ़े -   गुरमीत राम रहीम की पैरोल को लेकर सरकार असमंजस मे, मां के इलाज के लिए लगा चुके हैं कई बार अर्जी

TOLL

हाई स्पीड सेंसर से कटेगा टोल 

शुक्रवार को नेशनल हाईवे के प्रोजेक्ट निदेशक वीरेंद्र सिंह, जीएमआईटी एनएचआई विकास मल्होत्रा व भानु प्रताप एन. एच -44 पर पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस के सामने लगाए गए, मल्टीलेन फ्री फ्लो टेक्निक के रीडर्स का निरीक्षण करने के लिए पहुँचे. बता दें कि यहां लगे आईडी रीडर्स के आंकड़ों का मिलान टोल प्लाजा के आंकड़ों से किया जाएगा. इन आंकड़ों के जरिए ही हाईवे पर हाई स्पीड से गुजरने वाले वाहनों पर लगे,  फास्ट टैग रीडिंग की एक्यूरेसी की जांच की जाएगी. मल्टी लेन फ्री फ्लो तकनीकी टेस्टिंग के बाद ही सड़कों पर लगे टोल बैरियर को हटाया जाएगा. टोल टैक्स कलेक्शन भी ऑटोमेटिक शुरू हो जाएगा.

यह भी पढ़े -   किसान आंदोलन में महिलाओं के शोषण पर भड़की पहलवान बबीता फौगाट, जाने क्या कहा

मेट्रो इंफोसिस कंपनी मल्टीलेन फ्री फ्लो ट्रायल टेक्निक के ट्रायल और टेस्टिंग का कार्य कर रही है. हाईवे के टोल प्लाजा पर लगे सेंसर केवल 50 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड तक के वाहनों की टैग रीड कर सकते हैं. मल्टी लेन फ्री फ्लो तकनीक में उचित सेंसिटिव रीडर्स का प्रयोग किया गया है. 150 की स्पीड पर वाहनों का फास्ट टैग डिडक्ट किया जाएगा . ऐसे 1 पॉइंट पर सड़क के ऊपर आरएएफ रीडर व एएनपीआर कैमरे लगाए गए हैं.

यह भी पढ़े -   किसान आंदोलन में युवती से दुष्‍कर्म का आरोपित हिसार का अनूप चानौत केजरीवाल का रहा है करीबी

वही 3 लेन की सड़क पर 7 रीडर्स,तीन कैमरे, व दो और लेजर डिटेक्टर  लगे हैं. आर ए एफ रीडर फास्टैग कों रीड करने का कार्य करेगा और कैमरा गाड़ी का नंबर कैप्चर करेगा. वही दोनों लेजर डिटेक्टर के जरिए हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट डिटेक्ट किया जा सकेगा. बता दें कि इन सभी उपकरणों से गाड़ियों की संख्या,  टैग युक्त गाड़ियों के आंकड़े और टोल टैक्स की राशि आई एच एम सी एल के सर्वर पर ऑनलाइन भेजी जाएगी.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!