सीएम विंडो की शिकायतों पर मुख्यमंत्री की बड़ी कार्यवाही, कई बड़े अधिकारी सस्पेंड

पंचकूला । हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल के दिशा निर्देश पर सीएम विंडो पर आने वाली शिकायतों के प्रति लापरवाही बरतने वाले अफसरों और विभिन्न मामलों में दोषी पाए गए अधिकारियों / कर्मचारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई करते हुए कुछ को सस्पेंड कि

यह भी पढ़े -   इन जिलों में बदला मौसम, अगले कुछ घंटो में गरज के साथ होगी बूंदाबांदी
या गया है, तो कई के खिलाफ चार्जशीट करके अनुशासनात्मक कार्यवाही करने के निर्देश जारी किए हैं.

FotoJet 3

यह निर्देश सीएम विंडो और सोशल मीडिया ग्रीवस ट्रेकर की समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी कार्यक्रम के प्रोजेक्ट डायरेक्टर डा राकेश गुप्ता ने दिए. डॉ गुप्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री के सख्त निर्देश है कि भ्रष्टाचार और काम में ढिलाई को किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

यह भी पढ़े -    बेरोजगारी दर के मामले में अव्वल हरियाणा, सारे रिकॉर्ड तोड़ मई में भी नंबर वन

भिवानी: रिश्वत के मामले में कम्प्यूटर आपरेटर सस्पेंड

मुख्यमंत्री के ट्विटर पर आई एक शिकायत के अनुसार जब अशोक कुमार कम्प्यूटर आपरेटर द्वारा 3000 रुपए लेकर तथा शिकायत होने पर वापस करने का मामला संज्ञान में आया तो मुख्यमंत्री ने तुरंत प्रभाव से अशोक कुमार को नौकरी से बर्खास्त करने के आदेश दिए.

 

वेयरहाउसिंग कारपोरेशन

मुख्यमंत्री ने हरियाणा राज्य वेयरहाउसिंग कारपोरेशन के तकनीकी सहायक मंजीत छिकारा को जांच में दोषी पाए जाने पर उनके विरुद्ध तुरंत प्रभाव से विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए.

 

पुलिस विभाग

यूट्यूब पर वायरल एक वीडियो के आधार पर मुख्यमंत्री ने संज्ञान लेते हुए फरीदाबाद में नियुक्त एसआई राम रिछपाल और एसआई रामबीर को तुरंत प्रभाव से निलंबित करने के आदेश दिए. उन पर आरोप था कि शिकायत करने वाले व्यक्ति को इन्होंने चौकी में बुलाकर बुरी तरह से पीटा और वीडियो में ऐसा कहते हुए सुने जा रहे हैं कि इन्होंने पहले भी एक महिला से झूठी शिकायत मंगवाकर व्यक्ति को झूठे केस में फंसाया था.

 

खाद्य एवं आपूर्ति विभाग

खाद्य एवं आपूर्ति विभाग सोनीपत में 60 से ज्यादा फर्जी राशन कार्ड बनाए जाने के मामले में मुख्यमंत्री द्वारा संज्ञान लेते हुए संबंधित अधिकारियों और लाभार्थियों के विरुद्ध तुरंत प्रभाव से प्राथमिकी दर्ज करवाकर क़ानूनी कार्रवाई के आदेश दिए.

 

सिंचाई विभाग

पंचकूला जिले में सिंचाई विभाग में बिना न्यूनतम योग्यता एवं फर्जी दस्तावेज के आधार पर नौकरी पाएं हुए ज्वाइंट डायरेक्टर राजेश यादव एवं निजी सचिव दीवान चंद,जोकि दोनों काडा विभाग में लगे हुए थे,को मुख्यमंत्री ने तुरंत प्रभाव से निलंबित करने के आदेश दिए हैं.

 

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!