दादरी में स्वास्थ्य कर्मी के हाथ से छूटकर फर्श पर गिरा नवजात, मौत

चरखी दादरी । गोपी गांव की एक औरत ने प्रसव के दौरान स्वास्थ्य कर्मी द्वारा की गई बड़ी लापरवाही का आरोप लगाया है. पीड़ित महिला के अनुसार स्वास्थ्य कर्मी की लापरवाही की वजह से उसके नवजात बच्चे की मृत्यु हो गई है. इस संबंध में पीड़ित महिला ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और स्वास्थ्य मंत्री को पत्र लिखा है और न्याय की मांग की है. सीएम विंडो में भी पीड़ित महिला ने शिकायत दर्ज करवाई है. स्वास्थ्य विभाग द्वारा इस संबंध में जांच तो आरंभ हो चुकी है. परंतु अभी तक कोई महत्वपूर्ण कदम नहीं उठाया गया है.

यह भी पढ़े -   छत्रसाल स्टेडियम में अज्ञात लोगों और पहलवानों के बीच झड़प, सोनीपत के पहलवान की मौत

HOSPITAL DOCTOR

गोपी गांव की रहने वाली नेहा व उनके पति नवीन कुमार ने सीएम विंडो पर शिकायत दर्ज करवाई है. शिकायत करते हुए उन्होंने कहा है कि नेहा ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गोपी में 16 फरवरी 2021 को बेटे को जन्म दिया था. स्वास्थ्य कर्मियों के हाथ से सफाई के दौरान नवजात शिशु फर्श पर गिर गया. बच्चे को चोट लग गई. परन्तु स्वास्थ्य कर्मियों ने बच्चे को लगी चोट अथवा बीमारी के संबंध में कुछ भी नहीं बताया और भिवानी के सरकारी हॉस्पिटल में एंबुलेंस द्वारा भेज दिया.

भिवानी में डॉक्टरों ने नवजात शिशु की जांच की. जांच में नवजात शिशु को अंदरूनी चोट लगने का पता चला. उसके बाद इलाज की आधुनिक सुविधाएं न होने की बात कहते हुए रोहतक पीजीआई में रेफर कर दिया गया. वहां पर वरिष्ठ बाल रोग विशेषज्ञों की टीम द्वारा चार दिनों तक बच्चे का इलाज किया गया. अंदरूनी चोटों की वजह से सांस लेने में दिक्कत को देखते हुए और पीजीआई में वेंटिलेटर की सुविधा की कमी बताते हुए नवजात शिशु को प्राइवेट हॉस्पिटल में एडमिट करवाने की सलाह दी गई.

यह भी पढ़े -   हत्या के मामले में पहलवान सुशील कुमार को ढूंढ़ने में जुटी चार राज्यों की पुलिस, नहीं मिल रहा सुराख

1 मार्च तक परिवार ने अपने नवजात शिशु का इलाज रोहतक के लिए प्राइवेट हॉस्पिटल में करवाया. यहां पर नवजात शिशु के इलाज में लाखों रुपए का खर्च आया. इसके बाद भी नवजात शिशु का जीवन बच नहीं सका. इस सारी घटना में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गोपी की महिला स्वास्थ्य कर्मियों की बड़ी लापरवाही सामने आ रही है. पीड़ित महिला नेहा के अनुसार सीएम विंडो पर शिकायत दर्ज करवाने के पश्चात दादरी सरकारी हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने उन्हें बुलाया और उनके बयान दर्ज किए. परंतु अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है. इस संबंध में बात करने हेतु गांव गोपी के एसएमओ डॉक्टर महेंद्र सिंह से संपर्क नहीं बन पाया है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!