हरियाणा में डेंगू ने मचाई हाहाकार, बचाव के लिए जानें आर्युवेदिक नुस्खे

कुरुक्षेत्र । हरियाणा में डेंगू का प्रकोप तेजी से बढ़ रहा है और शायद ही प्रदेश का कोई जिला ऐसा बचा हों जो डेंगू बीमारी से ग्रस्त न हो. गुरुग्राम,पलवल, यमुनानगर, जींद, सिरसा, फतेहाबाद, हिसार समेत तमाम जिलों में डेंगू मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है. लक्षणों की पहचान होने पर लोग जब तक टेस्ट कराने पहुंच रहे हैं तब तक जान पर बन आ रही है. एलोपैथी में डेंगू की कोई निर्धारित दवा नहीं है सिर्फ लक्षण के आधार पर ही रोगी का उपचार किया जा रहा है.

Dengue Mosquito

हालांकि आर्युवेदिक पद्धति इसके असर को कम करने में काफी कारगर है और किसी भी बुखार को कम करने के लिए गिलोय के काढ़े का सेवन बहुत फायदेमंद बताया गया है. आर्युवेद चिकित्सक भी प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए पपीते के पत्तों के अर्क और काढ़े का सेवन दोनों को लाभकारी मान रहे हैं. इसलिए कोई निर्धारित इलाज न होने के चलते लोग इस बीमारी में एलोपैथिक दवाओं के साथ-2 आर्युवेदिक पद्धति को भी पूरा महत्व दें रहें हैं.

यह भी पढ़े -   ITR दाखिल करने वालों के लिए बड़ी खबर, देनी होगी बड़े लेन-देन की जानकारी

काढ़े का सेवन करने की विधि

श्रीकृष्णा राजकीय आयुर्वेदिक महाविद्यालय की एसोसिएट प्रोफेसर डा. शीतल ने बताया कि डेंगू में भी बुखार को कम करने के लिए गिलोये के काढ़े को सुबह व शाम सेवन करना काफी लाभदायक होता है. दो इंच गिलोये की बेल को डेढ़ कप पानी में उबालें और तब तक उबालते रहें जब तक आधा कप पानी न बच जाएं. यह एक जबरदस्त एंटी आक्सीडेंट है.

इनसे भी मिल रहा है फायदा

बकरी का दूध भी डेंगू मरीज के लिए इम्यूनिटी बढ़ाने का काम करता है. बकरी के दूध में ऐसी खूबी पाई जाती है जो सुपाच्य होने के साथ-साथ डेंगू बुखार में काफी लाभदायक होता है क्योंकि बकरी नीम और कई तरह की औषधियों का सेवन करती है.

यह भी पढ़े -   रेलवे ने 30 ट्रेनों को किया रद्द, सर्दी में सफर करना होगा मुश्किल

पपीते के पत्तों का रस यानि अर्क निकालकर उसका सेवन नियमित रूप से करने पर काफी लाभ मिलता है. आजकल तो पपीते के पत्तों के अर्क की टेबलेट भी बाजार में उपलब्ध है. इसे भी प्लेटलेट्स बढ़ाने में काफी कारगर उपाय माना जा रहा है.

इसके अलावा तुलसी के 4-6 पत्तों को कूटकर एक कप पानी में उबालनें के लिए रख दें और तब तक उबालें जब तक पानी आधा न रह जाए. इसके बाद इस पानी को छानकर पी लें. यह भी किसी इम्यूनिटी बूस्टर से कम नहीं है.

यह भी पढ़े -   स्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना की प्रोटोकॉल को सख्ती से लागू कराने के दिए आदेश, जानिए क्या है नई गाइडलाइन

डेंगू के लक्षण

तेज बुखार,सिर दर्द, मांसपेशियों, हड्डियों एवं जोड़ों में तेज दर्द ,पाचन क्रिया सही नहीं होना

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!