किसानों का आज से दिल्ली कूच: जंतर-मंतर पर रोज 200 किसान जुटेंगे, शर्तों के साथ सरकार ने दीं मंजूरी

Casino

नई दिल्ली । नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे किसानों को दिल्ली में जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करने की मंजूरी मिल गई है. किसानों को यह इजाजत 22 जुलाई से लेकर 9 अगस्त तक दी गई है. प्रदर्शन का समय सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक रहेगा. दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथोरिटी ने शर्तों के साथ प्रदर्शन की मंजूरी दी है.
गुरुवार से शुरू हो रहें किसानों के इस प्रदर्शन में हर रोज 200 किसान जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करने के लिए पहुंचेंगे. इसके साथ ही उन्हें कोविड गाइडलाइंस का पालन भी करना होगा.

यह भी पढ़े -   हरियाणा के छात्रों के लिए अच्छी खबर, अब सरकारी कार्यालयों में कर सकेंगे इंटर्नशिप, तैयार की गई पॉलिसी

kisan aandolan

गौरतलब है कि इस मुद्दे को लेकर दिल्ली पुलिस और संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं के बीच दो बार की बैठक बेनतीजा रही थी. किसान मोर्चा संसद के सामने धरना प्रदर्शन करना चाहते थे जबकि पुलिस इसके लिए तैयार नहीं थीं. अब उपराज्यपाल अनिल बैजल के निर्देश पर जंतर-मंतर पर प्रदर्शन की अनुमति दी गई है. किसान नेताओं ने भी इस पर सहमति जताई है.

केवल 200 प्रदर्शनकारी जंतर-मंतर पर आ सकेंगे

पुलिस ने बताया कि कड़ी सुरक्षा घेरे में हर दिन बसों में सवार होकर केवल 200 प्रदर्शनकारी जंतर-मंतर पर आएंगे. एक एसयूवी गाड़ी में छः नेता अलग से आ सकेंगे. प्रदर्शन के बाद सभी को वापस दिल्ली की सीमाओं पर छोड़ दिया जाएगा. पुलिस आयुक्त बालाजी श्रीवास्तव ने जंतर-मंतर पर पहुंचकर सुरक्षा व्यवस्था को लेकर अधिकारियों से बात की.
वहीं दिल्ली पुलिस के अधिकारियों से मीटिंग के बाद किसान नेताओं ने कहा कि वे संसद के मानसून सत्र के दौरान जंतर-मंतर पर ही किसान संसद लगाएंगे. इस दौरान किसान शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करते हुए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग करेंगे. इस दौरान कोई भी प्रदर्शनकारी संसद में नहीं जाएगा.

यह भी पढ़े -   अब प्रदेश में 7 दिनों में ठीक होंगे गलत बिजली बिल, देरी पर अफसरों पर होंगी कार्यवाही

केन्द्र और किसान दोनों अड़े

तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ देशभर के किसान पिछले साल दिसंबर से ही दिल्ली की सीमाओं पर धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं. इस दौरान किसान संगठनों और संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं के बीच दस दौर की बातचीत भी हों चुकी है लेकिन कोई समाधान नहीं निकल पाया है. किसान नेता कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े हुए हैं जबकि केन्द्र सरकार स्पष्ट कर चुकीं हैं कि कानून वापिस नहीं होंगे, हम किसानों की मांगों के मुताबिक कानूनों में संशोधन करने के लिए तैयार हैं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!