रोहतक के रसोईये दीपक के हाथ की बनी खिचड़ी के मुरीद हुए थे पीएम मोदी, पढ़े इस शख्स की पूरी कहानी

रोहतक | साल 1995 में नरेंद्र मोदी को हरियाणा की जिम्मेदारी सौंपी गई. एक बार वह पार्टी कार्यालय में लोगों से मुलाकात के लिए आए तो वहां एक 12 साल के बच्चे को देखा. उनको याद आया कि ये बच्चा दीपक है जोकि संघ की शाखा में जाता था और भाजपा कार्यालय में खाना बनाने का काम करता था. मोदी ने उससे हाल- चाल पूछा. अगले दिन मोदी ने दीपक को अपनी गाड़ी में बिठाया और साथ ले गए. गाड़ी जब किला रोड पर पहुंची तो दीपक को पैसे दिए और कहा कि अपने लिए निक्कर और टीशर्ट ले आओ. दीपक बताते हैं कि जब उन्होंने वो कपड़े पहने तो मोदी ने तारीफ करते हुए कहा कि बहुत अच्छे लग रहे हो, मैं भी अपने लिए लेकर आऊंगा.

Deepak

दीपक की बनाई खिचड़ी के मुरीद हुए थे मोदी

एक बार दीपक की बनाई हुई खिचड़ी मोदी को बहुत पसंद आई, लेकिन कुछ खिचड़ी बच गई जिसे फ्रिज में रख दिया गया. अगले दिन उन्होंने बची हुई खिचड़ी को देखकर दीपक से पूछा कि इसका क्या करोगे?

तब दीपक ने जवाब दिया कि इसे गाय को खिला देंगे. इस पर उन्होंने कहा कि कभी खाने की चीजों को फेंकना नहीं चाहिए. इसके बाद, उन्होंने खुद आटा लगाकर दिखाया और उसमें प्याज व खिचड़ी को मिलाकर बहुत स्वादिष्ट पराठे भी बनाए. उन्होंने खाने के सदुपयोग का महत्व सिखाया.

पढ़ाई न छोड़ने के लिए किया था प्रेरित

दीपक बताते हैं कि जब भी वह कार्यालय आते थे, तो दीपक की बनाई हुई खिचड़ी को बड़े चाव से खाते थे. जब वह नौवीं क्लास में थे, तब मोदी जी ने उसे पढ़ाई कभी भी न छोड़ने के लिए कहा. साल 2002, 2004 और 2006 में उनसे फोन पर बातचीत हुई.

साल 2009 में हिसार रैली में जाने के दौरान उनका हेलीकॉप्टर खराब हो गया था. तब उन्होंने उसे मिलने के लिए बुलाया था. उसके बाद, साल 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान भी पीएम मोदी ने उन्हें स्टेज पर आमंत्रित किया था.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!