हरियाणा में इस साल नौतपा का नहीं दिखेगा कहर, पश्चिमी विक्षोभ बना संकटमोचक

चंडीगढ़ | हरियाणा के लोगों के लिए राहत की खबर है क्योंकि इस साल नौतपा का कहर बहुत अधिक नहीं दिखने वाला है. इस साल भारत के मैदानी इलाकों राजस्थान, हरियाणा व एनसीआर दिल्ली में मार्च-अप्रैल की भीषण गर्मी और लू ने पिछले कई सालों के रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. सबसे अहम बात यह है कि मई में अधिक बारिश के कारण एक नया रिकॉर्ड भी बन गया है. अब 25 मई से 2 जून तक नौतपा भी चौकाएगा और नए रिकॉर्ड बनाने के लिए बेताब है.

barish

नौतपा का नहीं दिख रहा कहर

राजकीय महाविद्यालय नारनौल के पर्यावरण क्लब के नोडल अधिकारी चंद्रमोहन ने कहा कि 26 मई को नौतपा का आज दूसरा दिन है लेकिन मैदानी राज्यों राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और एनसीआर दिल्ली में अधिकतम तापमान सामान्य से नीचे बना हुआ है. अधिकांश स्थानों पर अधिकतम तापमान 35.0 से 40.0 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 19.0 डिग्री से 25.0 डिग्री सेल्सियस के बीच दर्ज किया गया है.

नौतपा के दौरान सबसे गर्म माने जाने वाले शुरुआत के दिनों में भीषण गर्मी और लू का आगाज पिछले दिनों राजस्थान, हरियाणा और एनसीआर के मैदानी इलाकों में प्री मानसून गतिविधियों के कारण अभी भी अनुपस्थित है. इस नौतपा के दौरान गर्मी होगी, लेकिन इसकी चुभन और गर्मी पिछले वर्षों की तुलना में काफी कम होगी.

यह भी पढ़े -   24% NCR एरिया घटाने की तैयारी में हरियाणा सरकार, जानें कौन- कौन से जिलें हो जाएंगे बाहर

तापमान रहेगा कम

इस साल नौतपा के दौरान हरियाणा और एनसीआर दिल्ली में भीषण गर्मी और लू की संभावना न के बराबर है और साथ ही तापमान भी अपेक्षाकृत कई डिग्री कम रहेगा. नौतपा के दौरान तापमान 40.0 डिग्री से 45.0 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है क्योंकि एक के बाद एक कमजोर पश्चिमी विक्षोभ 27 और 31 मई को सक्रिय होने जा रहा है जिसके कारण मौसम के गतिशील और परिवर्तनशील होने की संभावना है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा के इन जिलों में अगले तीन घण्टों में होगी बारिश, जाने जिलों के नाम

इन जिलों में दिखाई देगा पश्चिमी विक्षोभ का प्रभाव

इसका उत्तरी पहाड़ी क्षेत्रों के साथ-साथ पंचकूला, कालका, यमुनानगर, चंडीगढ़, अंबाला आदि जिलों में आंशिक प्रभाव पड़ेगा. इसके साथ ही हरियाणा और एनसीआर दिल्ली में सीमित स्थानों पर गरज के साथ तेज हवाएं चलेंगी. इससे तापमान में वृद्धि दर्ज नहीं होगी और आंशिक रूप से बादल छाए रहने पर भी तापमान में वृद्धि नहीं होगी.

यह भी पढ़े -   पैरोल पर बाहर आया राम रहीम असली या नकली, इस पर हाईकोर्ट ने दिया ये जवाब

नौतपा रहेगा कमजोर

सप्ताह के दौरान भी भीषण गर्मी और भीषण लू की संभावना बहुत कम है. आमतौर पर इस महीने दो पश्चिमी विक्षोभ आते हैं. लेकिन इस साल मई के महीने में कई पश्चिमी विक्षोभ आ चुके हैं और अंत तक दो और आएंगे जिससे सीमित स्थानों पर प्री मानसून गतिविधियां देखी जाएंगी. जिससे गर्मी और लू दोनों का प्रकोप फिलहाल खत्म हो गया है. और नौतपा इस बार ज्यादा गर्म नहीं होगा. खासकर सोमवार की तूफानी बारिश ने गर्मी का कहर शांत कर दिया है. महज एक दिन की बारिश ने 18 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!