12 साल की नाबालिग के पेट में दर्द होने पर हुआ बड़ा खुलासा, परिजनों के उड़े होश

यमुनानगर । जिले से एक बेहद ही घिनौनी करतूत का मामला सामने आया है. यहां के सरकारी अस्पताल में पेट दर्द की शिक़ायत लेकर अपने परिवार के साथ पहुंची एक गांव की 12 साल की नाबालिग गर्भवती निकली. जिसके बाद पूरे मामले को लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा चाइल्ड हेल्पलाइन यमुनानगर व पुलिस को सूचित किया गया. सूचना मिलते ही पुलिस ने आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है.

Rape

रादौर सरकारी हॉस्पिटल के एसएमओ डॉ विजय ने बताया कि क्षेत्र के एक गांव की 12 वर्षीय नाबालिग अपने माता-पिता के साथ पेट दर्द होने की शिक़ायत को लेकर उनके पास पहुंची. लेकिन जब डाक्टरों को जांच के दौरान शक हुआ तो उन्होंने उस नाबालिग लड़की का अल्ट्रासाउंड करवाया , जिसमें नाबालिगा करीब 5 महीने की गर्भवती पाईं गईं.

एसएमओ डॉ विजय ने बताया कि फिलहाल बच्ची को चिकित्सा सुविधा के लिए यमुनानगर रैफर किया जा रहा है. वहीं नाबालिग बच्ची के साथ हुई घटना के बाद डीएसपी रजत गुलिया भी सरकारी हॉस्पिटल पहुंचे और परिजनों से मामले की पूरी जानकारी लेते हुए मामले में कार्रवाई तेज कर दी है.

यह भी पढ़े -   रोहतक में दिल दहलाने वाली घटना: जिले के इस गांव में रात को खोपड़ी मिली और सुबह कंकाल

खैर मासूम बच्ची के बताने के बाद अब मामला चाइल्ड लाइन से उठकर पुलिस के दरवाजे पर पहुंचा है. हालांकि दोषी व्यक्ति तो कानून की गिरफ्त में आ जाएगा, लेकिन बड़ा सवाल यह है कि 12 साल की यह मासूम बच्ची अपने पेट में पल रहे गर्भ को लेकर अब जाएं तो कहा जाएं.

यह भी पढ़े -   वारदात: महिला की बेरहमी से हत्या, झज्जर में मिला कटा हुआ सिर, रोहतक में धड़

न जाने समाज में ऐसी कितनी बच्चियां वहसी दरिंदों का शिकार हो रही है और ये मासूम खेलने-कूदने की उम्र में ही मां बन जाती है. सबसे बड़ा प्रश्नचिन्ह तो यह है कि इन बच्चों को बाप का नाम देने वाला भी कोई नहीं होता. सरकार भले ही बेटियों की सुरक्षा को लेकर लाख दावे करती हों लेकिन कोई ऐसा कानून नहीं है कि इस तरह की शर्मशार घटना को अंजाम देने वालों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जा सके ताकि भविष्य में इस तरह की घटनाओं पर अंकुश लग सके.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!