लापरवाही: हरियाणा में PPP में 48.55 प्रतिशत लोगों की इनकम जांच पेंडिंग, जानिए पूरी जानकारी

चंडीगढ़ । हरियाणा सरकार की महत्वपूर्ण योजना परिवार पहचान पत्र (PPP) में कम वेरिफिकेशन का काम करने वाले लापरवाही बरत रहे हैं. इसके चलते अब तक प्रदेश में 48.55 फीसदी काम पूरा नहीं हो सका है. परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) में इन्कम वेरिफिकेशन का काम कर रहे पांच सदस्यों की टीम में से तीन की भागीदारी शत प्रतिशत रखी गई है. इसके बाद ही इनकम वेरिफिकेशन फाइनल सबमिट होती है लेकिन टीम लीडर ऑपरेटर को छोड़कर बाकी तीन सदस्यों वॉलेंटियर, सोशल वर्कर और छात्रों का सहयोग इसमें नहीं मिल रहा है.

FAMILY ID

प्रदेश में अब तक 51.45 फीसदी इनकम वेरिफिकेशन का काम पूरा हुआ है. इनमें से टीम लीडर ने 83% से ज्यादा काम पूरा कर लिया है जबकि ऑपरेटर की तरफ से 78.54 प्रतिशत काम पूरा हुआ है. इन दोनों को सर्वे में अनिवार्य किया गया है. टीम लीडर ऑपरेटर द्वारा किए गए वेरिफिकेशन के बाद वॉलंटियर सोशल वर्कर और छात्रों में से किसी के द्वारा उसकी वेरिफिकेशन किया जाना बहुत जरूरी है.

यह भी पढ़े -   डेंगू की बढ़ती रफ्तार को लेकर स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने ली हाई लेवल मीटिंग, अधिकारियों को दिए ये निर्देश

उसके बाद ही फाइनल रिपोर्ट सबमिट होती है, लेकिन प्रदेश में 48.13 प्रतिशत वेरिफिकेशन काम वॉलंटियर द्वारा किया गया है. सबसे बुरा हाल सोशल वर्कर और छात्रों का है. सोशल वर्कर की तरफ से 17.90% और छात्रों की तरफ से 8.54% काम ही किया गया है. प्रदेश में 11.45 फीसदी परिवार ऐसे हैं जो वेरिफिकेशन में अपने मूल स्थान पर नहीं मिले हैं.

वेरिफिकेशन में ये शहर सबसे पीछे

जींद के योजना अधिकारी मुकेश कुमार ने बताया कि परिवार पहचान पत्र इनकम वेरिफिकेशन में कुरुक्षेत्र पहले स्थान पर है. यहाँ 86% काम पूरा हो चुका है सोनीपत दूसरे और चरखी दादरी तीसरे स्थान पर है. जींद जिला आठवें नंबर पर है. सबसे निचले पायदान पर पलवल जिला है जहाँ पर मात्र छ फीसदी इनकम वेरिफिकेशन हुई है.

यह भी पढ़े -   पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट का फैसला- नाबालिग को सहमति संबंध में रहने के लिए नहीं दें सकते हैं सुरक्षा

सरकार द्वारा सभी योजनाओं को परिवार पहचान पत्र के साथ जोड़ा जा रहा है. इसलिए पहले परिवार पहचान पत्र में दी गयी 1.80 लाख रुपये से कम इनकम की वेरिफिकेशन की जा रही है कि क्या सूचना देने वाला सही जानकारी दे रहा है या नहीं दे रहा. वेरिफिकेशन के बाद ही योजनाओं का लाभ पीपीपी के जरिए लोगों को मिल सकेगा.

यह भी पढ़े -   अच्छी खबर: हरियाणा के सीरो सर्वे की रिपोर्ट में बड़ा खुलासा, 76.3 प्रतिशत लोगों में बनी एंटीबॉडी

गौरतलब हैं वेरिफिकेशन में टीम लीडर, ऑपरेटर, वॉलेंटियर, सोशल वर्कर और छात्रों की भूमिका अहम है. टीम के पांच मेंबर्स में से तीन के सर्वे के बाद फाइनल इनकम वेरिफिकेशन सबमिट होती है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!