हरियाणा बोर्ड में सामने आया बड़ा फर्जीवाड़ा, नकली आदेश से रचा खेल

भिवानी । हरियाणा बोर्ड में अपनी उम्र बदलवाने का एक बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है. मामले में एक,दो या दस नहीं, बल्कि 187 लोगों ने एक जज से मार्कशीट में अपनी जन्मतिथि बदलवाई. जब इन प्रमाणपत्रों का आनलाईन वेरिफिकेशन किया गया, तब जाकर मामले का भंडाफोड़ हुआ.

HBSE

कोर्ट के फर्जी आदेश दिखाकर किए गए इस सनसनीखेज मामले में जब हरियाणा बोर्ड के अधिकारियों को पता चला तो वह भी हैरान रह गए. हरियाणा बोर्ड की तरफ से अंकतालिका में उम्र कम करवाने वाले सभी 187 लोगों की अंकतालिका को रद्द कर दिया गया है. साथ ही 10वीं व 12वीं की अंकतालिका को आधार बनाकर नौकरी पाने वाले लोगों के सभी विभागों को पत्र लिखा है. उस पत्र में फर्जी आदेश से उम्र बदलवाने की बात कही गई है. संबंधित विभाग को भी इन लोगों पर कड़ी कार्रवाई करने को कहा गया है. वहीं पुलिस द्वारा पकड़े गए आरोपित को भी जेल भेज दिया गया है.

यह भी पढ़े -   बड़ी अपडेट: घर में आइसोलेट कोरोना संक्रमित को घर पर ही पहुंचाई जाएगी ऑक्सीजन

बताया जा रहा है कि पानीपत कोर्ट के एक जज के आदेश पर मार्कशीट बदलवाई गई. जिस जज के आदेश पर यह फर्जीवाड़ा किया गया. उसका कई दिन पहले पानीपत से ट्रांसफर हो चुका है. सभी 187 विधार्थियों का रिजल्ट रद्द करते हुए बोर्ड ने एफआईआर दर्ज करवा दी है.

यह भी पढ़े -   बड़ी अपडेट: घर में आइसोलेट कोरोना संक्रमित को घर पर ही पहुंचाई जाएगी ऑक्सीजन

बोर्ड अध्यक्ष डॉ जगबीर सिंह व सचिव राजीव प्रसाद ने बताया कि इस सब फर्जीवाड़े के पीछे एक ही युवक का हाथ है. मामले में फर्जी तरीके से कोर्ट के आदेश दिखाकर अंकतालिका में उम्र को बदलवाया गया है. बोर्ड ने उस समय आदेश को सही मानते हुए अंकतालिका जारी कर दी थी. बाद में जब कोर्ट के आदेश को बोर्ड अधिकारियों व कर्मचारियों ने आनलाइन चेक किया तो सही नहीं पाया गया. पानीपत से सेशन लेवल जज तक पत्र भेजा गया और जांच हुई, जिसमें सभी फर्जी आदेश मिलें.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!