CBSE पाठ्यक्रम में किया गया बदलाव, जानिए क्या होगी अब 10वीं और 12वीं की प्रश्न संख्या?

नई दिल्ली | CBSE 10वीं एवं 12वीं के पाठ्यक्रम में बदलाव किया गया है. सीबीएसई के 10वीं बोर्ड में 40% क्षमता  आधारित प्रश्न पूछे जाएंगे. वहीं, 12वीं में 30% क्षमता आधारित प्रश्न पूछे जाएंगे. बता दें कि अभी तक 12वीं-10वीं में केवल 10% क्षमता आधारित प्रश्न ही पूछे जाते लेकिन अब इसकी संख्या बढ़ा दी गई है.

CBSE

बोर्ड ने जारी किया मूल्यांकन पैटर्न

बोर्ड ने 2022-23 सत्र का मूल्यांकन पैटर्न जारी कर दिया है. जिसके अनुसार 10वीं और 12वीं में वस्तुनिष्ठ प्रश्नों की संख्या 20% होगी. अभी तक केवल क्षमता आधारित प्रश्न में दीर्घ उत्तरीय ही पूछे जाते थे. लेकिन अब मल्टीपल च्वाइस, केस स्टडी, लघु उत्तरीय प्रश्न भी पूछे जाएंगे. गौरतलब है कि कोरोना के कारण 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा दो पार्ट में ली गई थी. टर्म-1 और टर्म-2, लेकिन इस बार पहले की तरह एक एक ही बोर्ड में परीक्षा होगी.

मल्टीपल च्वाइस भी होंगे प्रश्न

इस पैटर्न में बोर्ड ने मल्टीपल च्वाइस प्रश्न भी रखे हैं. बता दें कि, टर्म -1 परीक्षा में मल्टीपल च्वाइस प्रश्न भी पूछे गए थे. लेकिन अब 20% वस्तुनिष्ठ प्रश्न में मल्टीपल च्वाइस प्रश्न ही रहेंगे.

यह भी पढ़े -   CBSE Results 2022: परिणाम घोषित करने की तैयारी में जुटा सीबीएसई बोर्ड, यहाँ जाने कब तक जारी होगा रिजल्ट

इस पैटर्न पर होगी नौवीं और 11वीं की परीक्षा

बता दें कि, नौवीं और 11वीं वार्षिक परीक्षा भी इसी पैटर्न में ली जाएगी. ऐसा निर्देश इसलिए दिया गया है. ताकि छात्र अपना आकलन कर पाए. क्षमता आधारित प्रश्नों की संख्या बढ़ाने का एकमात्र यही कारण है कि छात्र किताबी दुनिया से निकलकर कुछ अलग सोचें, अपना आकलन कर सके, ताकि छात्रों को वास्तविक जीवन और दिनचर्या की जानकारी हो.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!