ट्वीटर पर टकराएं हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्री, ताबड़तोड़ ट्वीट कर मनोहर लाल ने गिनवाई हरियाणा की किसान हित योजनाएं

चंडीगढ़ । किसान आंदोलन और किसानों के मुद्दे पर हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्री आमने-सामने आ गए और एक के बाद एक ट्वीट कर दोनों ने आपस में निशाना साधा. हरियाणा में चल रहे किसान संगठनों के आंदोलन के बीच दोनों के बीच जुबानी जंग जारी है. मुख्यमंत्री अमरिंदर ने ट्विटर के जरिए मनोहर लाल पर हमला किया तो मनोहर ने भी जबाबी हमला करते हुए एक के बाद एक आठ ट्वीट कर पंजाब के मुख्यमंत्री पर सवाल उठाए. मनोहर लाल ने हरियाणा में चल रही किसान हित की योजनाओं का सिलेसिलेवार जिक्र करते हुए कैप्टन से पुछा कि अब बताएं कि किसान विरोधी कौन है.

haryana cm press conference

किसानों के मुद्दे पर खींचतान

गत दिनों किसान आंदोलन को लेकर मुख्यमंत्री अमरिंदर ने मनोहर लाल से इस्तीफा मांगा था. इसके बाद मनोहर लाल ने किसान संगठनों के आंदोलन को लेकर कैप्टन अमरिंदर सिंह को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा था कि किसान आंदोलन के पीछे कैप्टन अमरिंदर का हाथ है. मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा आरोप लगाने के बाद कैप्टन अमरिंदर ने शाम को मनोहर लाल पर पलटवार किया. कैप्टन ने ट्वीट के जरिए लिखा कि हरियाणा के मुख्यमंत्री की टिप्पणी ने उनकी सरकार के किसान विरोधी एजेंडे को उजागर किया है. कैप्टन ने अपने ट्वीट में मुख्यमंत्री मनोहर लाल को याद दिलाया कि करनाल में बीजेपी के कार्यक्रम का विरोध कर रहे किसान हरियाणा के थे, पंजाब के नहीं.

यह भी पढ़े -   सीएम खट्टर की बड़ी घोषणा, हरियाणा सरकार ई-वाहन खरीदने पर देगी सब्सिडी

कैप्टन बताएं पंजाब में किसान कल्याण की योजनाएं

कैप्टन के ट्वीट के बाद सीएम मनोहर लाल ने भी लगातार आठ ट्वीट करते हुए पंजाब सरकार को कठघरे में खड़ा किया. मनोहर लाल ने अपने पहले ट्वीट में कैप्टन अमरिंदर से पुछा कि हरियाणा गेहूं, धान, सरसों, कपास, मूंगफली, सूरजमुखी, मूंग,चना, बाजरा समेत 10 फसलें एमएसपी पर खरीदता है . फसलों के पैसे सीधे किसानों के खाते में जमा हो रहें हैं . कैप्टन अमरिंदर बताएं कि वह अपने राज्य में कितनी फसलें एमएसपी पर खरीदतें है. अपने दूसरे ट्वीट में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा में धान की खेती का त्याग करने वाले किसानों को प्रदेश सरकार 7 हजार रुपए प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि दे रही है . पंजाब में ऐसा करने वाले किसानों को क्या मिलता है.

मनोहर लाल ने एक और ट्वीट करते हुए पंजाब सरकार से पूछा कि हरियाणा में यदि किसानों की फसल की पेमेंट 72 घंटे से लेट हो जाएं तो राज्य सरकार 12% की दर से ब्याज दे रही है. क्या पंजाब अपने किसानों को यह ब्याज राशि दें रहा है. मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि हरियाणा सरकार अपने किसानों को बागवानी की फसलों के प्रोत्साहित करने के लिए सबसिडी प्रदान करती है. हमारे यहां भावांतर भरपाई योजना के तहत किसानों के नुक़सान की भरपाई की जाती है. क्या पंजाब सरकार में ऐसी कोई योजना है.

यह भी पढ़े -   30 सितंबर तक जारी रहेगा 'आयुष्मान भारत पखवाड़ा', इच्छुक व्यक्ति करें लॉगिन 

हमारी सरकार सूक्ष्म सिंचाई परियोजना को अपनाने वाले किसानों को उपकरणों की खरीद पर 85% तक अनुदान देता है तो क्या पंजाब के किसानो के लिए कोई ऐसी योजना है. मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अपने एक अन्य ट्वीट में कहा कि हरियाणा में हमारी सरकार सात साल से गन्ने का भाव पूरे देश में सबसे ज्यादा दे रही है लेकिन कैप्टन सरकार ने किसान आंदोलन के चलते अब हरियाणा की तर्ज पर भाव बढ़ाए हैं, क्यों. आखिरी ट्वीट के जरिए मनोहर लाल ने कैप्टन अमरिंदर से पुछा कि अब आप बताएं कि किसान विरोधी कौन हुआ? हरियाणा या पंजाब.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!