हरियाणा BJP नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, किसानाें से बातचीत की अपील की

चंडीगढ । हरियाणा बीजेपी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी से नए कृषि कानूनों के विरुद्ध चल रहे किसान आंदोलन के मुद्दे पर बातचीत की है. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस बारे में पत्र लिखा है. इस पत्र में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने स्वयं को दीनबंधु सर छोटूराम का नाती बताया है और कहा है कि किसानों की बात करना मेरा धर्म है. इसके साथ-साथ जैसे कि मैं आपके नेतृत्व वाली सरकार में बतौर मंत्री रहा हूं, इसलिए भी किसानों की समस्याओं हेतु आपसे आग्रह करने की मेरी जिम्मेदारी बनती है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में लॉकडाउन के दौरान कही भी जाने के लिए पूरी करनी होंगी ये शर्तें, जाने

birender singh

किसान आंदोलन से देश व किसान को हुआ भारी नुकसान

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पिछले कार्यकाल में बीरेंद्र सिंह कैबिनेट मंत्री थे. बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बीरेंद्र सिंह ने यह पत्र भेजा है. प्रेस मीडिया से वार्तालाप के दौरान बीरेंद्र सिंह ने बताया कि किसान आंदोलन काफी लंबा चल चुका है. इस आंदोलन के इतने लंबे समय तक चलने की आशा नहीं थी और ना ही यह इतना लंबा चलना चाहिए था. इस किसान आंदोलन की वजह से सरकार, देश, खेती और स्वयं किसानों को भी भारी नुकसान हुआ है.

यह भी पढ़े -   लॉकडाउन में गेहूं खरीद पर भी रोक, जानें किसको मिलेगी छूट और किस पर रहेगा प्रतिबंध

26 फरवरी के बाद नहीं हुई कोई बातचीत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे अपने पत्र में पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने उन्हें याद करवाया की एक बार उन्होंने कहा था कि वह किसी भी एक कॉल पर किसानों से वार्तालाप करने के लिए तैयार हैं. बीरेंद्र सिंह ने कहा कि बातचीत का मामला बिल्कुल भी बंद नहीं होना चाहिए. परंतु 26 फरवरी के पश्चात सरकार और किसानों के बीच कोई बातचीत नहीं हुई. ना ही किसानों ने कोई पहल की ना ही सरकार ने. ऐसी स्थिति में हालात गंभीर होते जा रहे हैं.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में पेट्रोल-डीजल के दामों में लगी आग, जाने आज के भाव

सरकार किसानों की बात को सुने और समझे -बीरेंद्र सिंह

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने आग्रह किया कि भारत सरकार किसानों से बातचीत की पहल करें. दोबारा से बातचीत आरंभ होने से इसके कुछ सकारात्मक प्रभाव देखने को मिल सकते हैं. अभी तो हम सिर्फ बात करने के लिए कह रहे हैं. परंतु हम यह चाहते हैं कि किसानों की बातों को सुना जाए और समझा जाए.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!