हरियाणा सरकार ने इन शिक्षकों पर से हटाई HTET और बीएड पास करने की शर्त, शिक्षकों ने जताई खुशी

चंडीगढ़ | हरियाणा की मनोहर सरकार की ओर से प्रदेश के हजारों शिक्षकों के लिए राहत भरी खबर सामने आई है. प्रदेश सरकार ने करीब चार हजार नॉन एचटेट और नॉन बीएड प्राध्यापकों को यह राहत दी है. प्रदेश सरकार ने कहा है कि अब इन शिक्षकों को भविष्य में एचटेट और बीएड करने जरुरत नहीं होगी और उनकी सेवा सुचारू रूप से जारी रहेगी. इससे पहले उनकी नियुक्ति एचटेट और बीएड करने के साथ हुई थी.

यह भी पढ़े -   राशन वितरण के लिए डिपो पर शुरू हुई नई तकनीक, कार्ड धारकों को मिलेगा यह फायदा

Teacher

नियुक्ति के दौरान लगाई गई थी शर्त

बता दें कि साल 2013 में जारी एक विज्ञापन के तहत चार साल के एक्सपीरियंस के आधार पर नॉन एचटेट और नॉन बीएड नियुक्त प्राध्यापकों की नियुक्ति हुई थी. उस समय नियुक्ति में एक अप्रैल 2015 तक एचटेट व बीएड पास करने की शर्त रखी गई थी. हालांकि शिक्षक लगातार सरकार की इस शर्त का विरोध कर रहे थे.

ऐसे में निर्धारित अवधि में एचटेट और बीएड पास नहीं करने की स्थिति में करीब चार हजार शिक्षकों की नौकरी पर खतरा मंडरा रहा था, लेकिन अब मनोहर सरकार ने उनको इस शर्त से आजाद कर दिया है. हरियाणा शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव ने सोमवार को एक आदेश जारी कर अब इस शर्त को उनकी नियुक्ति की शर्त से हटा दिया है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में 10 बड़े प्रोजेक्ट्स के लिए जमीन खरीदने की कवायद शुरू, चीफ सेक्रेटरी ने सभी जिला उपायुक्तो को दिए निर्देश

हरियाणा स्कूल लेक्चरर्स एसोसिएशन के प्रधान सतपाल सिंधू ने कहा कि राज्य सरकार ने लंबे समय से चली आ रही मांग को स्वीकार कर सेवारत शिक्षकों को बड़ी परेशानी से छुटकारा दिला दिया है. उन्होंने बताया कि पिछले साल नवंबर में शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुर्जर, अतिरिक्त मुख्य सचिव महावीर सिंह व निदेशक जे गणेशन के साथ एक बैठक हुई थी जिसमें इस शर्त को हटाने का आग्रह किया गया था. सरकार ने इस मांग को पूरा कर हजारों शिक्षकों को खुशी प्रदान की है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!