पशुओं में रोजाना फैल रही बीमारियों से है बचना, तो दूध का ऐसे करें उपयोग

चंडीगढ़ | इन दिनों जानवरों में लंपी स्कीन डिजीज फैल रहा है. जिससे देश के कई राज्यों में हजारों जानवरों की मौत हो चुकी है. ऐसे में लोगों को इस बात का डर सता रहा है कि कहीं वो जो दूध पी रहे हैं वह किसी संक्रमित जानवर का तो नहीं है. ताकि वे इसके सेवन से संक्रमित न हों. लेकिन लोगों को डरने की जरूरत है, वह उन्हें उसी काम को गंभीरता से करने के लिए वैज्ञानिक सलाह देते हैं.

ublta dudh

दूध को अधिक समय तक उबालें

आपके घर में जहां से भी दूध आए उसे कम से कम 15 मिनट तक अच्छे से उबाल लें. साथ ही इसे चार से पांच बार उबाल लें. जिससे दूध में मौजूद हानिकारक बैक्टीरिया मर जाएंगे. इस तरह लोग इस प्रक्रिया के लिए खुद को बचा सकते हैं. कई बार जानवरों को एंटीबायोटिक्स भी दी जाती हैं जब वे बीमार पड़ जाते हैं तो इसका असर दूध पर भी देखा जा सकता है. अगर दूध को उबाला जाए तो यह संभावना भी कम हो जाती है.

गायों और भैंसों में तेजी से फैलने वाला वायरल रोग है. यह रोग पशुपालकों के आर्थिक नुकसान का मुख्य कारण है. हर उम्र की गायें इस बीमारी से ग्रसित हैं. विश्व पशु स्वास्थ्य संगठन ने इस ट्रांसबाउंड्री रोग को अधिसूचित रोग के रूप में वर्गीकृत किया है. लंपी स्कीन डिजीज वायरस उस वायरस के समान है जो मनुष्यों में चिकनपॉक्स का कारण बनता है. जिसे कैप्रीपैक्स कहते हैं. लेकिन इस बीमारी के फैलने का कारण केवल कैप्रिपोक्स ही नहीं बल्कि चेचक और गोटपॉक्स वायरस भी है. वायरस के अलावा यह बीमारी मच्छरों, खून चूसने वाली चींटियों और मक्खियों से भी आसानी से फैलती है. इसके साथ ही यह दूषित पानी, लार और चारे से भी फैलता है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में किसानों को बरसात से भारी नुकसान, 8 लाख एकड़ फसल डूबी; यहाँ देखे चौंकाने वाले आंकड़े

ये हैं इस बीमारी के लक्षण

  • इनमें बुखार, लार आना, आंखों से पानी आना और वजन कम होना शामिल हैं.
  • लंपी स्कीन डिजीज में शरीर पर (विशेषकर सिर, गर्दन और जननांगों के आसपास) 2 से 5 सेमी व्यास की गांठें बन जाती हैं.
  • इस रोग की चपेट में आने वाली गाय-भैंस के शरीर पर फोड़े-फुंसी शुरू हो जाते हैं. जिसमें पानी भरा हुआ है. यदि समय पर इलाज नहीं किया जाता है, तो अल्सर घावों में विकसित हो जाता है.
  • जानवरों की मौत के साथ-साथ मादा जानवरों का गर्भपात हो जाता है.
  • कुछ मामलों में, रोग नर और मादा दोनों जानवरों में लंगड़ापन, निमोनिया और बांझपन का कारण बन सकता है.
यह भी पढ़े -   इन 6 बड़े बदलावों के साथ शुरू होगा अक्टूबर महीना, आपका जानना है बहुत जरूरी

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!