स्कूल, कॉलेज खोलने को लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल का बड़ा बयान, पढ़ें

Casino

चंडीगढ़ । हरियाणा प्रदेश के मुखिया मनोहर लाल ने कहा कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करके स्टूडेंट्स को ज्ञान, कौशल एवं मूल्यों के साथ मजबूत बनाने के राज्य सरकार के विजन के अनुरूप हरियाणा वर्ष 2025 तक राष्ट्रीय शिक्षा नीति( NEP) के सफल क्रियान्वयन को सुनिश्चित करने की दिशा में तेजी से अपने कदम आगे बढ़ा रहा है. मुख्यमंत्री मनोहर लाल प्रदेश में एनईपी के कार्यान्वयन के संबंध में संबंधित विभागों के साथ समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे. मुख्यमंत्री के साथ प्रदेश के शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुर्जर ने भी इस बैठक में शिरकत की. मनोहर लाल ने कहा कि शिक्षकों , शिक्षाविदों और हितधारकों के साथ-2 विधार्थियों को भी इस एनईपी के लाभों का व्यापक स्तर पर गुणगान करना चाहिए ताकि छात्रों को अपनी पसंद व इच्छानुसार पाठ्यक्रम चुनने की आज़ादी हों और कैरियर को सही दिशा में आगे बढ़ा सकें.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में 9 अगस्त तक बढ़ाया गया लॉकडाउन, जानिए क्या खुलेगा और कहां लगी रहेगी पाबंदी

haryana cm press conference

मुख्यमंत्री ने बताया कि एनईपी की घोषणा के बाद से ही शिक्षकों व हितधारकों के बीच व्यापक स्तर पर जागरूकता फ़ैलाने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा समर्पित प्रयास किए जा रहे हैं, लेकिन प्रत्येक छात्र ,जो इस नीति के वास्तविक लाभार्थी हैं , उन्हें जागरूक करना समय की मांग है. बैठक के दौरान महिला एवं बाल विकास, स्कूल शिक्षा, उच्चतर शिक्षा एवं तकनीकी शिक्षा विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को साल 2025 तक एनईपी के सफल कार्यान्वयन के लिए बनाई गई रुपरेखा से अवगत कराया. मुख्यमंत्री मनोहर लाल को बताया गया कि एनईपी की सिफारिशों पर हरियाणा में पहले से ही काम हो रहा है और यहां तक कि हरियाणा द्वारा की गई सिफारिशों को भी एनईपी में सम्मिलित किया गया है.

स्कूलों को फिर से खोलने के संदर्भ में मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर से बिगड़े हालात अब काफी सामान्य हो गए हैं और कोरोना संक्रमित केसों की संख्या में गिरावट को देखते हुए स्कूलों व कॉलेजों को दोबारा खोलने की योजना पर जल्द विचार किया जाएं. मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि कोविड गाइडलाइंस का सख्ती से पालन सुनिश्चित करते हुए शिक्षण संस्थानों में पर्याप्त व्यवस्था की जानी चाहिए.

यह भी पढ़े -   हरियाणा के कॉलेजों में एडमिशन के लिए शेड्यूल जारी, 12 से 16 अगस्त के बीच होंगे ऑनलाइन आवेदन

स्कूल छोड़ने वालों का 100% दाखिला सुनिश्चित करें

मुख्यमंत्री ने शिक्षा विभाग को निर्देश दिए कि स्कूल छोड़ने वाले छात्रों का 100% दाखिला सुनिश्चित करना विभाग का लक्ष्य होना चाहिए. मुख्यमंत्री ने कहा कि स्कूल छोड़ने वाले छात्रों का रियल टाइम डाटा तैयार हो,ताकि ऐसे स्टूडेंट्स को दोबारा से स्कूलों में दाखिला दिलवाया जा सकें. उन्होंने कहा कि बच्चों की रोजगार क्षमता बढ़ाने के लिए सशक्त बनाना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है.

यह भी पढ़े -   इंटरनेशनल मास्टर एथलीट मान कौर की जिंदगी की दौड़ पूरी, पीएम मोदी रह चुके हैं फिटनेस के मुरीद

विदेशी भाषा सिखाने की और एक कदम

मुख्यमंत्री ने कहा किप्रत्येक जिले में विदेशी भाषा सिखाने वाले एक स्कूल को खोलने की संभावना तलाशें. समय की मांग के अनुरूप इन स्कूलों की संख्या बढ़ाने पर भी विचार किया जाना चाहिए. मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि इन स्कूलों में आवासीय सुविधा के इंतजाम भी होने चाहिए . इन स्कूलों के लिए क्लस्टर प्लान तैयार किया जाएं.

1000 प्लेवे स्कूलों में जल्द शुरू होंगे दाखिले

बैठक में मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि उनके द्वारा घोषित 4,000 प्लेवे स्मार्ट स्कूलों में से लगभग 1,000 स्कूल बनकर तैयार है. जैसे ही स्कूल, कालेज फिर से खुलेंगे , वैसे ही इन प्लेवे स्कूलों में एडमिशन प्रक्रिया शुरू की जाएगी. अधिकारियों ने कहा कि बाकी बचे 3,000 स्कूल खोलने का टारगेट भी इसी साल के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!