किसानों पर दोहरी मार, 15 दिन से नहीं हुआ भुगतान साथ ही उठान बंद

फतेहाबाद । किसानों के खातों में 15 दिन के बाद भी रुपए जारी नहीं हुए हैं. इससे किसानों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. वही अनाज मंडियों में गेहूं का उठान नहीं हो रहा है. धारसूल अनाज मंडी में गेहूं की खरीद के बाद गेहूं के बोरियों का उठान न होना, आढ़तियों व किसानों के लिए चिंता का विषय बन गया है. वही मंडी आढ़तियों ने कहा कि जब तक गेहूं का उठान नहीं होगा,  तब तक किसानों के खातों में पेमेंट नहीं डाल जाएगी.

FotoJet 97 compressed

गाड़ियों की कमी के कारण उठान धीमा 

धारसुल अनाज मंडी में स्टेट वेयरहाउस व स्टेट एजेंसीया गेहूं खरीद रही है. वही मंडी आढ़तियों का कहना है कि वेयर हाउस एजेंसी द्वारा उठान कार्य सुचारू रूप से किया जा रहा है. धारसूल अनाज मंडी व्यापारी अनिल कुमार, रणजीत सिंह,दीपक कुमार,सुखदेव,कमल,कंवर भान, आदि ने कहा कि सरकार 48 घंटों में गेहूं उठाने  व 72 घंटों में किसानों के खाते में धनराशि ट्रांसफर करने का दावा कर रही थी. इसी बीच अधिकारियों की लापरवाही का आलम यह है कि बीती 10 अप्रैल के बाद खरीदी गई गेहूं में ज्यादातर गेहूं का उठान नहीं होने की वजह से किसानों के खातों में पेमेंट नहीं आई है. इससे आढती व किसानों में रोष पनप रहा है.

यह भी पढ़े -   ऋण माफी योजना: 30 जून तक मूलधन करवाने वाले किसानों को मिलेगा आधे ब्याज व जुर्माना माफी का लाभ, जाने

15 दिन बाद भी नहीं हुआ भुगतान

आढ़तियों का कहना है कि 10 अप्रैल को खरीदी गई गेहूं का 15 दिन बीतने के बाद भी भुगतान नहीं हुआ है. किसानों को अगली फसल की बुआई करने के लिए पैसों की आवश्यकता है. समय पर पैसा नहीं मिलने के कारण उन्हें आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. किसानों द्वारा जब भी अधिकारियों से पेमेंट के बारे में पूछा जाता है. तो वह गेहूं उठान के बाद ही भुगतान की बात कहते हैं. आढ़ती भी उठान को लेकर बार-बार हेफेड प्रबंधक से मांग कर चुके हैं.

यह भी पढ़े -   कोरोना को लेकर राकेश टिकैत का खट्टर पर पलटवार, बोले- पूरे देश में लोग क्या यहां से ही गए

किसानों व आढ़तियों का कहना है कि यदि जल्द से जल्द उठान की रफ्तार तेज नहीं हुई, तो वह संघर्ष करने को विवश होंगे . डीएफएससी ने बताया कि जिले के किसानों को लगातार पेमेंट जारी की जा रही है. किसानों को किसी प्रकार की परेशानी नहीं आ रही है. किसी आढ़ती की वजह से सही किसान का डाटा न चढ़ने के कारण परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!