जानिए क्यों घट रहें हैं BSNL उपभोक्ता, बड़ी वजह आई सामने

अंबाला । आर्थिक बदहाली के दौर से गुजर रही नेटवर्क कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) में अधिकारियों से लेकर कर्मचारियों तक भारी-भरकम स्टॉफ मौजूद हैं. बावजूद इसकेे कस्टमर्स की संख्या बढ़ने का नाम नहीं ले रही है. इसके पीछे की वजह की पड़ताल की गई तो सामने आया कि बीएसएनएल की कमजोर नेटवर्क की वजह से कस्टमर्स का कंपनी से मोह भंग हो रहा है.

BSNL

जीएम प्रेम सिंह से लेकर शीर्ष अधिकारियों की टीम और कर्मचारियों की फौज कस्टमर्स की संख्या और विभाग की आमदनी बढ़ाने में विफल साबित हो रही है. आंकड़ों के मुताबिक सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल के राजस्व में पिछले दो वर्षों में तेजी से गिरावट आई है.

यह भी पढ़े -   दिवाली तक होने लगेगी अच्छी खासी ठंड, तीन दिन तक बारिश के भी आसार

2017-18 से शुरू हुआ राजस्व का आंकड़ा

पिछले पांच वर्षों के आंकड़ों का विश्लेषण किया गया तो सामने आया कि दो वर्ष पहले यानि वित्त वर्ष 2016-17 की आखिर तक जीएसएम नेटवर्क से बीएसएनएल का राजस्व की अपेक्षा वित्त वर्ष 2017-18 से दूरसंचार कंपनी की कमाई में गिरावट आने का सिलसिला शुरू हो गया और उसका वार्षिक राजस्व चार अंकों में सिमट कर रह गया. इसकी सबसे प्रमुख वजह प्राइवेट नेटवर्क कंपनियों की हाई इंटरनेट स्पीड के साथ लेटेस्ट रिचार्ज ऑफ़र उपभोक्ताओं को अपनी और लुभा रहे हैं. वहीं बीएसएनएल में 4 G नेटवर्क न होना और नेटवर्क कनेक्टिविटी में आ रही दिक्कत के चलते ग्राहकों का रुझान बीएसएनएल की तरफ नहीं हो पाया.

148 एक्सचेंज लगाएं गए हैं

प्राप्त जानकारी अनुसार बीएसएनएल नेटवर्क कंपनी ने अंबाला क्षेत्र में उपभोक्ताओं को टेलिफोन सेवा प्रदान करने के लिए 148 एक्सचेंज लगाएं हुए हैं. अब 3267 पोस्टपेड कनेक्शन, 7395 ब्रॉड बैंड,6 लाख 51 हजार प्रीपेड ग्राहक ,18955 बेसिक फोन व 1163 लीज लाइन के उपभोक्ता ही शेष रह गए हैं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!