कभी कागज के लिफाफे बेचकर करते थे गुजारा, अब हरियाणा सरकार में बने कैबिनेट मंत्री

हिसार । हरियाणा सरकार में हिसार जिलें की चौधर और बढ़ गई है. हिसार विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक कमल गुप्ता ने मंगलवार को चंडीगढ़ राजभवन में मंत्री पद की शपथ ग्रहण की. हालांकि खुद कमल गुप्ता इस बात को लेकर इंकार कर रहे थे लेकिन सीएम मनोहर लाल ने मीडिया के सामने घोषणा कर सभी चर्चाओं पर विराम लगा दिया था. वहीं जिला अध्यक्ष हिसार से लेकर पार्टी के तमाम पदाधिकारियों समेत अन्य गणमान्य नेताओं ने दिन में ही विधायक कमर गुप्ता को बधाई संदेश भेजने शुरू कर दिए थे और एक-दूसरे का मुंह मीठा करवा रहे थे.

mntri

हिसार सीट से विधायक डॉ कमल गुप्ता के मनोहर कैबिनेट में शामिल होने से हिसार की राजनीति में बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा क्योंकि हिसार से ही पहले सरकार में सहयोगी जननायक जनता पार्टी की ओर से श्रम राज्य मंत्री अनूप धानक, डिप्टी स्पीकर रणबीर गंगवा हरियाणा सरकार में अहम भूमिका निभा रहे हैं तो वहीं उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला भी हिसार से सांसद रह चुके हैं. ऐसे में हिसार जिलें के प्रति उनका रुझान भी काफी ज्यादा है.

अब डॉ कमल गुप्ता के मंत्री बनने से चार प्रतिनिधि हिसार जिले की दावेदारी सरकार में पेश करेंगें तो जाहिर है लोगों के कार्य आसानी से सिरे चढ़ सकेंगे. इसके साथ ही हिसार जिले में विकास कार्यों की गति भी बढ़ेगी.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में करीब 20 दिन बाद निकली करारी धूप, जानें आगे कैसा रहेगा मौसम

गरीबी के दिनों में बेचते थे लिफाफे

विधायक डॉ कमल गुप्ता का जन्म फतेहाबाद के बिढाना गांव में हुआ था. पिता मनफूल सिंह गुप्ता डाक विभाग में नौकरी करते थे. शुरुआत से ही घर की आर्थिक स्थिति बहुत ज्यादा अच्छी नहीं थी. कमल गुप्ता ने पढ़ाई के साथ-साथ लिफाफे बेचकर अपनी पढ़ाई का खर्च उठाना पड़ा. इन तमाम विकट परिस्थितियों के बावजूद डॉ कमल गुप्ता युवावस्था से ही संघर्ष करते रहे थे.

यह भी पढ़े -   उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने हिसार में बन रहे हवाई अड्डे का किया निरीक्षण

69 वर्षीय डॉ कमल गुप्ता ने रोहतक मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी की है. यहां पर भी उन्होंने छात्र राजनीति में बढ़-चढ़कर भाग लिया. इसके बाद आरएसएस की विचारधारा से प्रभावित होकर स्वयंसेवक बन गए. उन्होंने 10 वर्षों तक सरकारी चिकित्सक के रूप में अपनी सेवाएं दी और उसके बाद अपना खुद का अस्पताल चलाने लगें.

यह भी पढ़े -   तारक मेहता का उल्टा चश्मा फेम मुनमुन दत्ता की अग्रिम जमानत के लिए कल हिसार कोर्ट में सुनवाई, जानें क्या है मामला

यह है राजनीतिक करियर

1996 और 2000 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार से कड़ी हार का सामना करना पड़ा था. लेकिन 2014 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी की बड़ी नेता सावित्री जिंदल को हराकर सबको चौका दिया. इसके बाद 2019 के विधानसभा चुनावों में हिसार की जनता का फिर से आशीर्वाद मिला और लगातार दूसरी बार विधायक बने. सामाजिक कार्यों में उनकी भागीदारी के चर्चे हमेशा लोगों की जुबान पर रहें हैं. वो अपने सरल स्वभाव के लिए जाने जाते हैं. अब मनोहर कैबिनेट में शामिल हों गए हैं तो हिसार शहर के लोगों को उम्मीद रहेगी कि हिसार शहर विकास कार्यों में नए आयाम स्थापित करेगा.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!