हरियाणा की बेटी का Indian Economic Service में चयन, इंडियन एम्बेसी में देंगी सेवाएं

जींद । किसी लक्ष्य को हासिल करने के लिए यदि दृढ़ निश्चय कर लिया जाएं तो मंजिल पाना कोई मुश्किल नहीं है. यह कहना है जींद शहर के हकीकत नगर निवासी जगबीर जैन की बेटी मन्नू जैन का. मन्नू का सपना था कि वो ऑफिसर बन कर देश की सेवा करें. इसी संकल्प के साथ वो अपनी तैयारियों में जुटी रही और यूपीएससी द्वारा आयोजित इंडियन इकोनॉमिक सर्विस की परीक्षा सफल करने में सफलता हासिल की. शुक्रवार को जैसे ही परीक्षा परिणाम घोषित हुआ , मन्नू के घर पर बधाई देने वालों की भीड़ जुट गई. कुल 20 हजार परीक्षार्थियों ने इंडियन इकोनॉमिक सर्विस (आईईएस) की परीक्षा को उत्तीर्ण किया है , जिनमें मात्र 15 का चयन ही आईईएस के लिए हुआ है.

यह भी पढ़े -   मृतक की पत्नी को नगर परिषद आउटसोर्सिंग वन के तहत दी जाएगी नौकरी, प्रशासन ने लोंगो की मांगो पर लगाई मोहर

jind news 9

लक्ष्य निर्धारित कर आगे बढ़ी मन्नू जैन

मन्नू ने 10 वीं और 12 वीं की पढ़ाई डीएवी स्कूल जींद से पूरी करने के बाद इकोनोमिक्स ऑनर्स दौलतराम कॉलेज से बीए की पढ़ाई पूरी की. साल 2018 में पोस्ट ग्रेजुएशन एमए इकोनोमिक्स गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय से की. इस दौरान उनका चयन आरबीआई ऑफिसर परीक्षा में भी हुआ. थोड़े समय के लिए मन्नू ने दिल्ली स्थित मैत्री कॉलेज में जूनियर लेक्चरर पद पर भी कार्यरत रहीं. पर अपने सपने को साकार करने के लिए उन्हें समय की जरूरत थी तो उन्होंने नौकरी छोड़कर पूरा फोकस सिविल सर्विस की परीक्षा पर कर दिया. वर्ष 2019 में मन्नू जैन ने आईईएस की परीक्षा दी और इस परीक्षा को और इंटरव्यू को क्लियर किया लेकिन उनका चयन नहीं हुआ.

यह भी पढ़े -   रेलवे का बड़ा फैसला, ट्रेनों मे स्लीपरो की जगह लगेगे थर्ड एसी इकोनामी कोच

इस पर उन्होंने निराश न होते हुए दोबारा वर्ष 2020 में आईईएस परीक्षा के लिए आवेदन किया. पहले की तरह ही उन्होंने इस परीक्षा को उत्तीर्ण किया. इसके बाद अप्रैल 2021 में इंटरव्यू की घड़ी आई लेकिन कोरोना काल की वजह से उनका इंटरव्यू जुलाई माह में हुआ,जिसे मन्नू ने बखूबी फेस किया. शुक्रवार को परीक्षा परिणाम घोषित हुआ और मन्नू का चयन आईईएस के लिए हों गया.

लक्ष्य को हासिल करने में परिजनों का रहा सहयोग

मन्नू ने बताया कि इस लक्ष्य को हासिल करने में उनका पूरा परिवार उनके साथ खड़ा था और समय-समय पर परिजनों ने प्रोत्साहित किया. उन्होंने अपनी पढ़ाई को घंटों में न बांटकर इसे अपनी दिनचर्या बना लिया. उन्हें हर हाल में अपने सपने को साकार करना था और आज वो सपना साकार हो गया.

यह भी पढ़े -   कल हरियाणा में मनाया जाएगा ‘वर्ल्ड कार फ्री डे’, CM खट्टर चलाएंगे साईकिल

मन्नू जैन ने कहा कि मंजिलें अभी और भी हैं और दूर तक जाना चाहतीं हूं. उन्होंने कहा कि जब आप किसी लक्ष्य को पाने की ठान लेते हैं तो सफलता एक न एक दिन आपके कदमों को चूम लेती है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!