26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली के दौरान गुम हो गया था जींद का युवक, साढ़े सात महीने बाद लौटा घर

जींद । कृषि कानूनों के विरोध में 26 जनवरी को दिल्ली में निकाली गई ट्रैक्टर परेड के दौरान जींद जिले के कंडेला गांव का 28 वर्षीय बिजेंद्र दिल्ली में गुम हो गया था लेकिन करीब साढ़े सात महीने बाद शनिवार देर शाम जब वह घर लौटा तो परिजनों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा. उसे आश्रम अधिकार अभियान नामक संस्था के लोग घर छोड़ने आएं.

Kisan Andolan Farmer Protest
बेटे के यूं अचानक गायब होने से परिजनों का बुरा हाल था. बार-बार मन में विचार आ रहे थे कि जिंदा भी है या मर गया. आश्रम अधिकार अभियान संस्था के कार्डिनेटर साजन लाल ने बताया कि युवक बिजेंद्र उन्हें फरवरी में कश्मीरी गेट के पास फ्लाईओवर के नीचे नग्न अवस्था में बेसुध पड़ा मिला था. उसके शरीर पर काफी चोट के निशान थे और पैरों में सूजन आई हुई थी. उसकी मानसिक स्थिति भी ठीक नहीं थी. संस्था ने उसे इलाज के लिए अस्पताल में दाखिल करवाया. उस समय बिजेंद्र अपने बारे में कुछ भी नहीं बता पा रहा था लेकिन कुछ दिन पहले उसने अपनी जानकारी संस्था के लोगों को बताई और संस्था के लोग उसे घर छोड़ने आ गए.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में सस्ते दामों में मिल रहे सोलर पैनल, यहां करें रजिस्ट्रेशन

दिल्ली में की थी तलाश

बिजेंद्र की तलाश के लिए 11 जून को कंडेला गांव के ग्रामीणों ने तत्कालीन डीसी आदित्य दहिया से मिलकर बिजेंद्र का सुराग लगाने की मांग की थी कि वो किसी जेलमें हैं या कही और गूम हो गया है. उसके बाद पुलिस ग्रामीणों को साथ लेकर बिजेंद्र को तलाश करने के लिए दिल्ली भी गई थी.

यह भी पढ़े -   नवजात के जन्म के 21 दिन के अंदर बनवा लें बर्थ सर्टिफिकेट, वरना काटने पड़ सकतें हैं चक्कर

बिजेंद्र की बुढ़ी विधवा मां ने भी रोते हुए अधिकारियों से फरियाद लगाई थी कि जिसका जवान बेटा लापता हो उस मां का क्या हाल होगा. इसके अलावा तीन जून को जब राकेश टिकैत जींद आएं थे ,तब बुढ़ी मां उनसे मिली थी और बेटे को ढूंढ कर लाने की गुहार लगाई थी.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!