हरियाणा के इस जिले में तेजी से फैल रहा काला पीलिया, जानिए इससे कैसे करें बचाव

कैथल | हरियाणा के कैथल के कलायत और राजौंद प्रखंड में हेपेटाइटिस-सी (काला पीलिया) के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. राजौंद प्रखंड के रोहेड़ा, नीमवाला, सेरधा गांवों में मरीजों की संख्या ज्यादा है. वहीं कलायत के मटौर गांव में भी मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. इसी तरह जिले के पई, क्योदक, खरकान के अन्य गांवों से भी कई मरीज काले पीलिया की दवा लेने अस्पताल पहुंच रहे हैं. कोरोना महामारी को देखते हुए अब मरीजों को एक महीने की जगह दो से तीन महीने की दवा दी जा रही है. ताकि मरीजों को अस्पताल न जाना पड़े. अस्पताल में मरीजों के लिए काला पीलिया की दवा नि:शुल्क उपलब्ध है.

यह भी पढ़े -   8 फरवरी को हरियाणा कैबिनेट की अहम बैठक, सीएम मनोहर लाल खट्टर करेंगे अध्यक्षता

HOSPITAL DOCTOR

जानिए विस्तार से

विभाग द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में भी इस बीमारी की जांच की जा रही है. अब प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर शीघ्र ही काला पीलिया जांच की सुविधा शुरू करने का काम किया जा रहा है. यहां यह सुविधा शुरू होने के बाद लोगों को जिला अस्पताल के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। वर्तमान में हेपेटाइटिस-सी के 8389 मरीजों में से 5816 मरीजों का इलाज पूरा हो चुका है. 250 मरीजों की दवा चल रही है. अन्य मरीजों को दवाएं देने की प्रक्रिया जारी है. वहीं, बी के 469 मरीजों में 42 मरीजों की दवा चल रही है.

पहले अस्पताल में होती है जांच

काला पीलिया की जांच के लिए सबसे पहले जिला सिविल अस्पताल की लैब में सैंपल लिया जाता है. इधर इस बीमारी की पुष्टि के बाद एक निजी लैब में जांच के लिए कूपन उपलब्ध है. लैब में सैंपल देने के एक हफ्ते बाद रिपोर्ट आती है. यहां से कितना वायरस है इसकी जानकारी मिलने के बाद उसी के मुताबिक दवाएं शुरू की जाती हैं. अस्पताल में मरीजों को काला पीलिया की बी और सी दवाएं मिल रही हैं. इस दौरान लोगों को इस बीमारी से बचाव के लिए जागरूक भी किया जा रहा है. काला पीलिया के लक्षण, बचाव और बचाव के उपाय बताए गए हैं. सबसे ज्यादा मामले ग्रामीण इलाकों से सामने आ रहे हैं.

यह भी पढ़े -   तारक मेहता का उल्टा चश्मा फेम मुनमुन दत्ता की अग्रिम जमानत के लिए कल हिसार कोर्ट में सुनवाई, जानें क्या है मामला

जानिए डॉक्टरों का क्या है, कहना

जिला सिविल अस्पताल की कार्यकारी पीएमओ डॉ. रेणु चावला ने बताया कि अस्पताल में पीलिया की काली दवा नि:शुल्क उपलब्ध कराई जा रही है. इस बीमारी से बचाव और इसके लक्षणों के बारे में लोगों को जागरूक किया जा रहा है. अस्पताल में इस बीमारी की जांच और इलाज के लिए एक डॉक्टर को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!