हरियाणा: आधुनिक तरीके से तैयार की धान की नर्सरी, सालाना लाखों रुपए मुनाफा कमा रहा किसान

कुरुक्षेत्र | आधुनिकता के इस युग में परम्परागत खेती किसानों के लिए लगातार घाटे का सौदा साबित हो रही है, जिसके चलते कुछ किसानों ने तो खेती से ही मुंह मोड़ लिया है, लेकिन कुछ किसान ऐसे भी हैं जिन्होंने परम्परागत खेती का मोह त्याग कर आधुनिक खेती में किस्मत आजमाना शुरू कर दिया, जिसके जरिए वो मालामाल हो गए हैं. इनमें एक नाम कुरुक्षेत्र जिले के गांव मथाना के रहने वाले किसान रामप्रकाश का भी है.

dhan

किसान रामप्रकाश केडी सिंह के नाम से अपनी सीड कंपनी चलाते हैं. इस कंपनी के जरिए रामप्रकाश गेहूं और धान के बीज खुद तैयार कर किसानों तक सप्लाई करते हैं. उन्होंने बताया कि पिछले 6 साल से आधुनिक तरीके से धान की नर्सरी तैयार कर बीज को तैयार करते हैं. इसके बाद इसे किसानों को बेचा जाता है, जिससे अच्छी- खासी आमदनी हो जाती है.

25 दिन में वैज्ञानिक तरीके से तैयार करते हैं धान की नर्सरी

किसान रामप्रकाश ने बताया कि परम्परागत तरीके से धान की नर्सरी तैयार करने में समय ज्यादा लगता है, जिससे पैदावार पर भी काफी प्रभाव पड़ता है. हम यहां वैज्ञानिक तरीके से धान की नर्सरी तैयार करते हैं जो 25 दिन में बनकर तैयार हो जाती है. लगभग 5 से 10 दिन के अंदर उसको खेत में लगाना होता है. उसके अंतराल में ही हम सारी अपनी धान की नर्सरी किसानों को बेच देते हैं. यहां पीआर धान, बासमती धान और हाइब्रिड की कई किस्में तैयार करके किसानों तक पहुंचाई जाती है.

यह भी पढ़े -   अजीबोगरीब: रोहतक जेल में बंद राम रहीम असली हैं या नकली, सोमवार को हाईकोर्ट करेगी फैसला

पहले लैब में जांच

किसान रामप्रकाश ने बताया कि बीज को वैज्ञानिक विधि से तैयार कर लैब में जांच के लिए भेजा जाता हैं और फिर खेत में बुआई की जाती है. खेत में बीज डालने से पहले वैज्ञानिक तरीके से खेत की मिट्टी का ईलाज किया जाता है. इसके साथ बीज का भी उपचार किया जाता है. इस प्रक्रिया के चलते बीज का जमाव अच्छा होता है और कोई भी जड़- गलन की समस्या पैदा नहीं होती और जब खेत में इसकी रोपाई की जाती है तब जल्दी उसका जमाव हो जाता है.

यह भी पढ़े -   खुशखबरी: हिसार में 12 अगस्त से अग्निवीरों की भर्ती, यहां करें रजिस्ट्रेशन

प्रति एकड़ लाखों रुपए आमदनी

किसान रामप्रकाश ने बताया कि वह 5 एकड़ में नर्सरी तैयार करते हैं जिसमें 1 एकड़ में लगभग 2 से ढाई लाख रुपये तक की नर्सरी बिक जाती है. जिसमें शुद्ध मुनाफा लगभग डेढ़ लाख रुपया प्रति एकड़ तक हो जाता है. यह एक से डेढ़ महीने में समाप्त हो जाती है. इसके बाद वह अपने खेत में धान की रोपाई भी करते हैं. उसके पास हरियाणा से लेकर यूपी तक के किसान धान की नर्सरी लेने के लिए आते हैं. उन्होंने कहा कि किसानों को परम्परागत खेती का मोह त्यागना होगा और अपनी आमदनी में इजाफा करने के लिए खेती में नई तकनीक को साथ लेकर चलना होगा.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!