जवान ले रहा था आखिरी सांसे और अस्पताल दे रहा था सिस्टम की दुहाई, सिस्टम के आगे हारी जिंदगी

महेंद्रगढ़ । देश की सुरक्षा के लिए जवान अपनी जान जोखिम में डालकर लड़ने के लिए सदैव तत्पर रहता है.  हमारे सिस्टम के आगे यदि एक जवान जिंदगी की जंग हार जाए,  तो ऐसे सिस्टम का क्या फायदा. महेंद्रगढ़ जिले के खतौद गांव में कुछ ऐसा ही हुआ.

mahendergarh news today

सिस्टम के आगे शहीद ने गवाई जान 

महेंद्रगढ़ के खतौद गांव में रहने वाले सीआरपीएफ के जवान सोमवार को गुरुग्राम के प्राइवेट अस्पताल में नियमों के चलते शहीद हो गए. रविवार सुबह महेंद्रगढ़ -रेवाड़ी मार्ग पर सिगड़ी गांव के समीप एक ट्राले ने बाइक को टक्कर मार दी. इसमें जवान औऱ उसका साला घायल हो गया. प्राथमिक उपचार के लिए उसे रेवाड़ी के अस्पताल से गुरुग्राम रेफर कर दिया गया. गुरुग्राम के प्राइवेट अस्पताल वालों ने जवान को भर्ती नहीं किया.

यह भी पढ़े -   भाजपा नेता की शिकायत पर किया गया सस्पेंड, रोते हुए बोला डॉक्टर वीडियो वायरल

वह अपनी पॉलिसी की दुहाई देते रहे और छह-सात घंटे जिंदगी की जंग लड़ते हुए आखिरकार जवान शहीद हो गया. जवान को पूरे गांव ने नम आंखों से अंतिम विदाई दी. पूरे राजकीय सम्मान के साथ उसका अंतिम संस्कार किया गया. गांव के लोग सरकारी सिस्टम के साथ ही प्राइवेट अस्पताल वालों को भी कोस रहे थे.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!