लोकसभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल तक स्थगित, पूरे मॉनसून सत्र में सिर्फ 2 घंटे हुआ काम बाकी हंगामा

नई दिल्ली | भारतीय संसद में इस साल का मॉनसून सत्र आरोप-प्रत्यारोप और हंगामे की भेंट चढ़ गया. विपक्ष ने सरकार को पेगासस जासूस कांड, कृषि कानून, बेरोजगारी, महंगाई जैसें मुद्दों पर सरकार को घेरने का काम किया और हंगामा होता रहा. जिस कारण लोकसभा की कार्यवाही को सुचारू रूप से नहीं चलाया जा सका और काम की बातों पर चर्चा ना के बराबर हुई.

SANSAD

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने बुधवार को लोकसभा की कार्यवाही को अनिश्चितकाल के स्थगित करने की जानकारी दी. यानी अब मॉनसून सत्र में लोकसभा की कार्यवाही नहीं होगी. पूरे मॉनसून सत्र में लगातार हो रहे हंगामे के बीच दो दिन पहले ही मॉनसून सत्र को समाप्त करने का फैसला लिया गया है. इस बार का मानसून सत्र 19 जुलाई से 13 अगस्त तक होना था.

यह भी पढ़े -   करनाल लाठीचार्ज मामले की निष्पक्ष जांच के लिए आयोग नियुक्त, एक महीने के भीतर आएगी रिपोर्ट

आज बुधवार सुबह 11:00 बजे लोकसभा की कार्यवाही शुरू हुई. जिसके बाद अध्यक्ष ओम बिरला ने हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के निधन पर शोक व्यक्त किया, जो पहले संसद सदस्य और केंद्र में मंत्री थे. नित्यानंद मिश्रा, गोपालराव मायेकर और सुदर्शन रॉय चौधरी के लिए भी श्रद्धांजलि दी गई.

कामकाज अपेक्षा के अनुरूप नहीं रहा- लोकसभा अध्यक्ष

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सुबह कार्यवाही शुरू होने पर बताया कि 17वीं लोकसभा की छठी बैठक 19 जुलाई 2021 को शुरू हुई और इस दौरान 17 बैठकों में 21 घंटे 14 मिनट कामकाज हुआ. उन्होंने कहा, सदन में कामकाज अपेक्षा के अनुरूप नहीं रहा. बिरला ने बताया कि व्यवधान के कारण 96 घंटे में करीब 74 घंटे कामकाज नहीं हो सका. लोकसभा अध्यक्ष ने कहा, निरंतर व्यवधान के कारण महज 22 प्रतिशत कार्य निष्पादन रहा. उन्होंने बताया कि सत्र के दौरान संविधान (127वां संशोधन) विधेयक सहित कुल 20 विधेयक पारित किये गए. चार नये सदस्यों ने शपथ ली.

यह भी पढ़े -   बॉर्डर खुलवाने को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर,15 नवम्बर को होंगी सुनवाई

66 तारांकित प्रश्नों के दिए उत्तर

बिरला ने बताया कि मॉनसून सत्र के दौरान 66 तारांकित प्रश्नों के मौखिक उत्तर दिये गए और सदस्यों ने नियम 377 के तहत 331 मामले उठाये. उन्होंने कहा कि इस दौरान विभिन्न स्थायी समितियों ने 60 प्रतिवेदन प्रस्तुत किये, 22 मंत्रियों ने वक्तव्य दिये और काफी संख्या में पत्र सभापटल पर रखे गए. उन्होंने बताया कि सत्र के दौरान अनेक वित्तीय एवं विधायी कार्य निष्पादित किये गए.

यह भी पढ़े -   Kishan Aandolan: केन्द्र सरकार के साथ बातचीत को लेकर राकेश टिकैत का बड़ा ऐलान, पढ़ें

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के वक्तव्य के बाद वंदे मातरम की धुन बजाई गयी और सदन की बैठक को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया. सदन में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह सहित अनेक केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी एवं अन्य सदस्य मौजूद थे.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!