किसान आंदोलन: गुरुग्राम, फरीदाबाद सहित हरियाणा में सरकार की अनुमति के बिना जिला नहीं छोड़ सकेंगे डीसी

Casino

पंचकूला । नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसान संगठनों को टकराव के लिए न उकसाने और संयम की परीक्षा न लेने की सीएम मनोहर लाल की नसीहत के बाद अब हरियाणा सरकार ने सभी उपायुक्तो को रात में जिला नहीं छोड़ने का निर्देश दिए हैं. अगर उन्हें सरकारी या निजी कारणों से जिलें से बाहर रात गुजारनी है तो पहले मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव डीएस ढेसी, मुख्य सचिव विजयवर्धन और मंडलायुक्तों को लिखित रूप में जानकारी देनी होगी.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में 9 अगस्त तक बढ़ाया गया लॉकडाउन, जानिए क्या खुलेगा और कहां लगी रहेगी पाबंदी

haryana cm
बगैर लिखित जानकारी के रात को जिलें से बाहर रात गुजारने वाले उपायुक्तो पर सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी गई है. मुख्य सचिव विजय वर्धन ने वीरवार को सभी जिला उपायुक्तो को इस संबंध में आदेश जारी किए हैं. मुख्यमंत्री कार्यालय में लगातार शिकायतें मिल रही थी कि कुछ जिलों के उपायुक्त उच्चाधिकारियों को अवगत कराएं बिना सरकारी या निजी दौरें के नाम पर रात को जिलें से बाहर रहते हैं.

यह भी पढ़े -   बिग बॉस फेम नेत्री सोनाली फोगाट को आया फिर गुस्सा, हिसार के विभाग में हुआ हाई वोल्टेज ड्रामा

कोरोना की तीसरी लहर की आंशका व किसान आंदोलन के चलते प्रदेश में संवेदनशील स्थिति बन रही है. अगर ऐसी परिस्थितियों में उपायुक्त जिला मुख्यालय पर नहीं होंगे तो तुरंत एक्शन लेने में कई तरह की दिक्कतें आ सकती है. इस बात पर संज्ञान लेते हुए सीएम मनोहर लाल ने सभी जिलों के उपायुक्तो को रात में जिलें में हाजिर रहने की हिदायत दी है.

मुख्य सचिव की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि सरकार के संज्ञान में आया है कि कुछ जिलों के उपायुक्त उच्चाधिकारियों को अवगत कराएं बिना अपने जिलों के अधिकार क्षेत्र से बाहर रात गुजारते हैं. यह बेहद ही गंभीर मसला है. आगे से उपायुक्त जब भी अधिकारिक या निजी काम से जिलें से बाहर रात गुजारेंगे तो पहले सक्षम प्राधिकारियों को इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से सूचित करेंगे.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!