पराली प्रबंधन के लिए अब सरकार देंगी प्रति एकड़ एक हजार रुपए, जानें कैसे करें आवेदन

पंचकूला । प्रदेश के किसानों को हरियाणा सरकार ने खुशखबरी दीं है. हरियाणा में पराली जलाने की घटनाओं पर पूर्ण रूप से अंकुश लगाने के लिए राज्य सरकार ने महत्वपूर्ण कदम उठाया है. प्रदेश में पराली (धान के फसल अवशेष) के प्रबंधन के लिए राज्य सरकार अभी से तैयारियों में जुट गई है. इसके लिए सरकार किसानों को आर्थिक मदद मुहैया करवाएगी. इस साल स्ट्रा बेलर द्वारा पराली की गांठ या बेल बनवाकर इसे औधोगिक इकाईयों में देने वाले किसानों को प्रति एकड़ एक हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि मिलेगी.

यह भी पढ़े -   हरियाणा के 40 हजार युवाओं को मिलेगी नौकरी, यहां देखें सभी भर्तियों का शेड्यूल

Webp.net compress image 11
किसानों और उधोगों को पोर्टल पर कराना होगा पंजीकरण

हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल ने बताया कि इस योजना का लाभ उठाने के लिए विभाग के पोर्टल https://agriharyana.gov.in पर पंजीकरण करना होगा. अधिक जानकारी के लिए किसान साथी अपने निकटतम कृषि अधिकारी या टोल फ्री नंबर 1800-180-2117 पर कॉल कर सकते हैं. इस पोर्टल के जरिए किसान और उधोग पराली का लेन-देन कर सकेंगे. यह पोर्टल किसानों और उधोगों को पराली की मांग और आपूर्ति के लिए मध्यस्थता करने का काम करेगा. प्रदेश सरकार ने इसके लिए 230 करोड़ रुपए का बजट जारी किया है.

यह भी पढ़े -   सभी राजकीय आईटीआई में जल्द होगी अनुदेशकों की भर्ती, HSSC ने शुरू की प्रक्रिया

अनुदान पर मिलेंगी स्ट्रा बेलर

राज्य के कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ सुमिता मिश्रा ने बताया कि पराली की गांठें बनाने वाली स्ट्रा बेलर किसानों को अनुदान पर उपलब्ध कराई जाएगी. उन्होंने सभी औधोगिक इकाईयों को भी पराली के लिए पोर्टल पर जाकर पंजीकरण करवाने की गुजारिश की है, ताकि समय पर उनकी पराली की मांग पूरी हो सके. उन्होंने कहा कि इस तरह पराली जलाने की समस्या से भी छुटकारा मिल सकेगा और पर्यावरण को भी प्रदुषित होने से बचाया जा सकेगा.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!