हरियाणवियों को भा रही हैं कोलकाता की भिंडी, गुजरात का पपीता, जानें किसका क्या हैं भाव

पानीपत | गर्मियों में 20-30 रुपए प्रति किलो तक बिकने वाली भिंडी इन दिनों 120 से 150 रुपए प्रति किलो तक बिक रही हैं और खास बात यह है कि हरी सब्जियों में लोगों को भिंडी का स्वाद खूब भा रहा है. अब आप सोच रहे होंगे कि सर्द मौसम में उत्तर भारत में भिंडी की फसल तो होती ही नहीं है तो आपको बता दें कि यह भिंडी कोलकाता और सूरत से आ रही है. सर्दी के मौसम में कोलकाता और सूरत में भिंडी की बंपर पैदावार होती है.

यह भी पढ़े -   रेलवे यात्रियों के लिए जरूरी सूचना, 11 ट्रेनें रहेंगी प्रभावित, सफर पर निकलने से पहले देखें लिस्ट

sabji

हालांकि महंगी होने के कारण आवक कम हो रही है लेकिन जितनी भी आवक हो रही है वह मंडी में हाथों-हाथ बिक रही हैं. भिंडी का इतना ऊंचा भाव उस समय चल रहा है जब लगभग सभी सब्जियों का भाव 20-30 रुपए प्रति किलो तक चल रहा है. केवल शिमला मिर्च ही 50 से 60 रुपए प्रति किलो तक बिक रही हैं.

पपीता व अंगूर की बंपर फसल

इन दिनों आंध्र प्रदेश सहित गुजरात में पपीता और महाराष्ट्र में अंगूर की बंपर पैदावार मिल रही है. बंपर पैदावार होने के चलते पानीपत में थोक में पपीते का भाव 14-15 रुपए प्रति किलोग्राम तक चल रहा है. एक महीने पहले तक पपीता 50-60 रुपए प्रति किलोग्राम तक बिक रहा था लेकिन अब भाव गिरकर 20 रुपए प्रति किलोग्राम तक पहुंच गया है. हालांकि पपीते की खेती हरियाणा व उत्तर प्रदेश में भी होती है लेकिन ज्यादातर पपीते के बागान आंध्र प्रदेश व गुजरात में है.

यह भी पढ़े -   रेलवे यात्रियों के लिए जरूरी सूचना, 11 ट्रेनें रहेंगी प्रभावित, सफर पर निकलने से पहले देखें लिस्ट

चीकू व अंगूर भी हुआ सस्ता

आढ़ती अशोक कटारिया ने बताया कि पपीते की बंपर पैदावार होने के चलते पानीपत में रोजाना 80-90 टन पपीते की आवक हो रही है. सर्दी के मौसम में पपीते के साथ-साथ नारियल पानी तथा चीकू की खपत कम ही रहती है. इसलिए सितंबर- अक्टूबर में चीकू का भाव 200 रुपए प्रति किलोग्राम तक था वो भाव अब 20 रुपए प्रति किलोग्राम हो गया है. मंडी में अंगूर की आवक भी खूब हो रही है. जिसके चलते अंगूर का भाव 40-60 रुपए प्रति किलोग्राम तक है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!