नारनौल से अंबाला जाने वाला 152डी हाईवे इस दिन से होगा शुरु, 3 घंटे में खत्म होगा सफर

नारनौल | भारतमाला परियोजना के तहत हरियाणा को 30 जुलाई से एक और छह लेन का ग्रीनफील्ड राजमार्ग मिलेगा. इस हाईवे पर 30 और 31 जुलाई को ट्रायल होगा. उसके बाद 1 अगस्त 2022 से इस हाईवे पर 4 जगहों पर टोल प्लाजा शुरू हो जाएंगे. इस हाईवे के जरिए हरियाणा के 8 जिलों खासकर दक्षिणी हरियाणा में पड़ने वाले नारनौल-महेंद्रगढ़ और भिवानी को चंडीगढ़ से सीधा जोड़ा जाएगा.

Fourlane Highway

227 किमी लंबे छह लेन राष्ट्रीय राजमार्ग

ट्रांस हरियाणा ग्रीनफील्ड प्रोजेक्ट के तहत बने इस 227 किलोमीटर लंबे छह लेन राष्ट्रीय राजमार्ग का नाम एनएच-152डी है. यह राष्ट्रीय राजमार्ग नारनौल बाईपास के मंडी गांव से शुरू होकर सीधे कुरुक्षेत्र जिले के इस्माइलाबाद क्षेत्र के गांगेड़ी गांव पहुंचेगा. इस हाईवे को अंबाला-कोटपुतली इकोनॉमिक कॉरिडोर के तहत 2018 में बनाने की घोषणा की गई थी.

एनएचएआई की ओर से जारी पत्र के मुताबिक सिक्स लेन हाईवे का काम लगभग पूरा हो चुका है. 30 और 31 जुलाई तक इस पर ट्रायल ट्रैफिक शुरू कर दिया जाएगा. उसके बाद 1 अगस्त से हाईवे पर टोल कलेक्शन किया जाएगा. 227 किलोमीटर लंबे इस हाईवे पर 4 टोल बूथ बनाए गए हैं. पहला टोल बूथ महेंद्रगढ़ में बनाया गया है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में 50 से कम बच्चों वाले 916 सरकारी स्कूल हो सकते हैं मर्ज, देखें जिलेवार लिस्ट

इसलिए हुई देरी

कोरोना महामारी के कारण एनएच-152डी पर काम में देरी हुई. इसकी आधारशिला 14 जुलाई 2020 को रखी गई थी.गंगाहेड़ी के बाद यह अंबाला-नरवाना हाईवे पर मिलेगी. अभी तक दक्षिणी हरियाणा के नारनौल, महेंद्रगढ़ और भिवानी जैसे जिलों के लोगों के लिए चंडीगढ़ से कोई सीधा संपर्क नहीं था. इस हाईवे के बनने से इन क्षेत्रों के लोगों को फायदा होगा.

यह भी पढ़े -   GMCH Chandigarh Jobs: मेडिकल कॉलेज चंडीगढ़ में आई 12वीं पास उम्मीदवारों के लिए भर्ती, 10 अगस्त अंतिम तिथि

राजस्थान से आने वालों को बड़ी राहत

अब तक महाराष्ट्र, गुजरात, मध्य प्रदेश और राजस्थान की तरफ से आने वाले वाहनों को दिल्ली-जयपुर हाईवे-48 पर रेवाड़ी से होकर कुरुक्षेत्र, करनाल, अंबाला, चंडीगढ़, कैथल या रोहतक पहुंचना पड़ता था. इसके अलावा उन्हें या तो केएमपी पर चढ़ना था या दिल्ली से होकर जाना था. एनएच-152डी बनने से राजस्थान की ओर से आने वाले वाहन अब इस हाईवे के जरिए नारनौल के मंडी बायपास होते हुए राजस्थान के कोटपुतली के पनियाला मोड़ से सीधे अंबाला जा सकेंगे.

8 जिलों को सीधा फायदा

राष्ट्रीय राजमार्ग-152डी बनने का सीधा लाभ हरियाणा के आठ जिलों महेंद्रगढ़, कुरुक्षेत्र, रोहतक, कैथल, भिवानी, करनाल, चरखी-दादरी और जींद जिलों को होगा. अब तक इन आठ जिलों का चंडीगढ़ या राजस्थान से कोई सीधा संपर्क नहीं था.

यह भी पढ़े -   CBSE की 10वीं और 12वीं कंपार्टमेंट की परीक्षा इस दिन से शुरू, देखें शेड्यूल

3 घंटे में 227 किमी का सफर

करीब 5 हजार 108 करोड़ रुपये से बनकर तैयार हुए राष्ट्रीय राजमार्ग-152डी के बाद कुरुक्षेत्र के नारनौल से इस्माइलाबाद की दूरी 265 किलोमीटर से घटकर 227 किलोमीटर हो जाएगी. नारनौल से अंबाला का सफर सिर्फ 3 घंटे में पूरा किया जा सकता है. इस हाईवे पर यातायात सुचारू रखने के लिए करीब 122 पुलों का निर्माण किया गया है. पर्यावरण का विशेष ध्यान रखते हुए हाईवे के दोनों ओर 1.25 लाख से अधिक पेड़-पौधे लगाए गए हैं

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!