1 जून से अध्यापकों को जाना है स्कूल, सरकार के इस फैसले का विरोध कर रहे शिक्षक

बहादुरगढ़ | कोरोना के चलते विद्यार्थियों की स्कूलों की छुट्टियां चल रही है. कोरोना के हालातों को देखते हुए छुट्टियों को और भी बढ़ाया गया है. लेकिन शिक्षकों को 1 जून से स्कूल में जाना है. मगर इस फैसले से बहुत से शिक्षक सहमत नहीं है. शिक्षकों  का कहना है कि जब तक सभी को वैक्सीन नहीं लग जाती तब तक स्कूल नहीं खुलने चाहिए.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में 30 जून तक बंद रहेंगे स्कूल, आज से शुरू होगी बच्चों की ऑनलाइन क्लासेस

Teacher

शिक्षकों द्वारा इस बात का किया जा रहा है विरोध

अगर हम इस समय लापरवाही बरतते है, तो वह काफी जानलेवा साबित हो सकती है. सरकारी स्कूल के शिक्षक मनोज,  पूजा व अमरजीत ने कहा कि एक दूसरे के संपर्क में आने की वजह से कोरोना संक्रमण फैलता है. ऐसे में रोस्टर बनाकर भी स्कूलों में शिक्षकों को बुलाए जाने के बाद भी एक दूसरे के संपर्क में आने से नहीं बचा जा सकता.

कोरोना महामारी के कारण कई जिलों के शिक्षकों की मौत हो चुकी है. उन्होंने कहा कि कुछ शिक्षकों ने वैक्सीन लगवा ली है और कुछ लगवा रहे हैं, लेकिन अभी बहुत से बाकी है. ऐसे में शिक्षकों को स्कूल बुलाने से पहले वैक्सीनेशन पूरा किया जाए, ताकि शिक्षक भी सुरक्षित रहे.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!