फरीदाबाद सीमा में बसे 1400 परिवारों के लिए राहत की खबर, मुख्यमंत्री ने किया बड़ा ऐलान

Casino

फरीदाबाद । अरावली क्षेत्र में अवैध रूप से बसें गांव खोरी वासियों के लिए बुधवार को दिन भर रहे तनाव के माहौल के बीच अच्छी खबर सामने आई है. राहत की बात यह है कि सरकार उनको डबुआ कालोनी में बनी सोसायटी में फ्लैट देकर पुनर्वास कराएगी. सीएम मनोहर लाल की और से आएं संदेश के पश्चात जिला प्रशासन अब आगे की कार्रवाई में जुट गया है. सीएम मनोहर लाल की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि खोरी गांव के 3400 व्यक्ति यानि करीब 1400 परिवार प्रशासनिक सर्वे में निकलकर सामने आएं हैं, जो हरियाणा के हैं. बाकी लोग दिल्ली के ही है और वोटर भी दिल्ली के हैं.

यह भी पढ़े -   हरियाणा: गणित का जादूगर है 6 साल का कार्निक, एक साथ लिखता है दोनों हाथों से

CM

मुख्यमंत्री ने कहा है कि ऐसे लोगों को डबुआ कॉलोनी में फ्लैट दिए जाएंगे और उनके लिए बैंकों से ऋण मुहैया करवाने की कोशिश की जाएगी ताकि वे किस्तों पर फ्लैट ले सकें. फरीदाबाद नगर निगम सीमा में बसे इन लोगों के पुनर्वास की घोषणा के बाद नगर निगम ने आगे की कार्रवाई को अमलीजामा पहनाना शुरू कर दिया है.

निगमायुक्त डॉ गरिमा मितल ने कहा कि प्रदेश सरकार की ओर से जैसे निर्देश आएंगे,उसी अनुरूप पुनर्वास योजना की प्रक्रिया आगे बढ़ाई जाएगी. अवैध निर्माण गिराए जाने की कार्रवाई पर उन्होंने कहा कि कार्यवाही हर हाल में की जाएगी क्योंकि सुप्रीम कोर्ट में छः सप्ताह के भीतर रिपोर्ट पेश की जानी है.

यह भी पढ़े -   दिल्ली से जुड़ेगा हिसार एयरपोर्ट, बनाया जाएगा 180 किलोमीटर लंबा हाइस्पीड रेलवे ट्रैक

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर होनी है कार्यवाही

7 जून को सुप्रीम कोर्ट ने अरावली क्षेत्र खोरी बस्ती में बनाएं गए अवैध निर्माण को ढहाने के आदेश दिए थे और साथ ही नगर निगम को छ सप्ताह के भीतर रिपोर्ट पेश करने को कहा था. नगर निगम और पुलिस प्रशासन ने लोगों को कार्यवाही के लिए सचेत कर दिया था और कार्यवाही संबंधित नोटिस भी चिपका दिए थे. हालांकि इसके बाद लोगों ने घरों से अपना सामान तो उठा लिया लेकिन मकानों से कब्जा नहीं छोड़ा था.

सरकार के इस रवैए के खिलाफ गुरनाम सिंह चढूनी भी खोरी बस्ती आएं थे और उनके लिए अम्बेडकर पार्क में एक सभा का आयोजन भी किया गया था लेकिन धारा-144 लागू होने की वजह से प्रशासन ने सभा की अनुमति नहीं दी. प्रशासन के समझाने के बावजूद भी अम्बेडकर पार्क वाली गली में लोगों का हुजूम इक्कठा हो गया.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में खुलेंगे 2000 हर- हित स्टोर्स, मुख्यमंत्री 2 अगस्त को पंचकूला में करेंगे उद्घाटन

मजदूर संगठनों के प्रतिनिधियों और दिल्ली यूनिवर्सिटी के वामपंथी संगठनों से जुड़े छात्रों ने ग्रामीणों के साथ मिलकर प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए पत्थरबाजी चालू कर दी. पुलिस को हालात काबू करने के लिए हल्का लाठीचार्ज करना पड़ा था. ऐसे में सुबह से लेकर शाम तक माहौल बेहद तनावपूर्ण बना रहा. आसपास के एरिया में चप्पे-चप्पे पर पुलिस मुस्तैद नजर आईं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!