पैतृक संपत्ति के विवाद के कारण नायब तहसीलदार भाई के साथ डीएसपी बहन ने किया दादा और चाचा के परिवार पर हमला

फतेहाबाद ।  अर्जुन अवार्डी पहलवान व वर्तमान में फतेहाबाद में डीएसपी के पद पर कार्यरत गीतिका जाखड़ व उनके नायाब तहसीलदार भाई बलराम पर उनके चाचा ने मारपीट का आरोप लगाया है. बता दें कि उनके चाचा वीर प्रकाश सिंह ने अग्रोहा थाने में यह शिकायत दर्ज करवाई है. इसके अनुसार डीएसपी गीतिका जाखड़ भट्टू कला में तैनात नायब तहसीलदार बलराम जाखड़ व उसके पिता सत्यवीर जाखड़, फतेहाबाद पुलिस के 2 कर्मचारियों ने जबरदस्ती उनके घर में घुस गए. उनके 88 वर्षीय पिता अमरचंद जाखड़ व उनके परिवार के साथ उन्होंने मारपीट की. वहीं उन्होंने आरोप लगाया कि आरोपियों ने उनकी गर्भवती पुत्रवधू को भी थका दिया व जान से मारने की धमकी दी.

यह भी पढ़े -   शर्मनाक: दिल्ली पुलिस के जवान की हैवानियत, 3 बेटियां होने पर पत्नी को दिया ज़हर

fatejhabad news

पैतृक  संपत्ति के लिए अपने ही चाचा व दादा पर भाई बहन ने किया हमला  

प्रकाशवीर के अनुसार सभी आरोपी फतेहाबाद पुलिस की सरकारी गाड़ी में सवार होकर उनके घर आए थे. इस मामले में वह अग्रोहा पुलिस को शिकायत भी दे चुके हैं,  लेकिन अब तक कोई भी मामला दर्ज नहीं किया गया है. वही नायब तहसीलदार बलराम जाखड़ ने अपने चाचा सत्यवीर जाखड़ व उनके परिवार के खिलाफ 28 अगस्त को अग्रोहा थाने में मारपीट करने का मामला दर्ज करवाया था. बता दे कि दोनों पक्षों का अग्रोहा गांव में बने पैतृक मकान को लेकर विवाद चल रहा है.

यह भी पढ़े -   भिवानी के देवसर गांव में गिरी आसमानी बिजली, दो लोगों की मौके पर मौत 4 घायल

वही प्रकाशवीर ने इस मामले में डीजीपी, डीएसपी व अग्रोहा थाना प्रभारी को भेजी अपनी शिकायत में बताया कि 26 अगस्त की शाम को वह अपने पुराने मकान के साथ लगती हुई निर्माणाधीन बिल्डिंग को ताला लगाने के लिए आया था. मकान में उसने सीमेंट व अन्य मटेरियल आदि रखा हुआ है. जैसे ही उसने शटर लगाया. वहां मौजूद बलराम व उसके साथियों ने उस पर हमला कर दिया. इस दौरान उसने अपने बेटे को आवाज लगाई परंतु वह घर पर नहीं था. आवाज सुनकर उसकी पत्नी वहां आई.

उसने अग्रोहा के सरकारी नंबर पर फोन कर इस मामले की सूचना दी. वही कुछ देर बाद एक महिला शक्ति पुलिस की गाड़ी उनके घर पर आई. उन्होंने सोचा कि पुलिस की गाड़ी आई है. वह और उसका बेटा घर के गेट के आगे खड़े थे. सरकारी गाड़ी में डीएसपी गीतिका जाखड़, नायब तहसीलदार  बलराम जाखड़,  उनके पिता सत्यवीर व अन्य पुलिसकर्मी आए. गाड़ी से उतरते ही उन्होंने सभी पर हमला कर दिया. शोर-शराबे की आवाज सुनकर 88 वर्षीय पिता अमरचंद भी वहां पर आ गए. धक्का-मुक्की की वजह से उनको भी चोटें आई. वहीं डीएसपी गीतिका जाखड़ ने उनकी गर्भवती पुत्रवधू को भी जान से मारने की धमकी दी व उसे धक्का दिया.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!