हरियाणा में 150 दलित परिवारों का सामाजिक बहिष्कार, 15 दिनों से हुक्का पानी भी बंद

जींद | हरियाणा के जींद से जातिगत भेदभाव की एक शर्मनाक खबर सामने आई है. जहां सवर्ण जाति के लोगों द्वारा दलित परिवारों का का सामाजिक बहिष्कार किया जा रहा है. जिस कारण इन परिवारों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है.

FARMAR POLICE

हरियाणा के जींद जिले के उचाना विधानसभा क्षेत्र के छातर गांव में कुछ लड़कों ने एक दलित युवक की पिटाई कर दी. सवर्ण जाति के युवक के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवाने पर बीते 15 दिनों से 150 दलित परिवारों का सामाजिक बहिष्कार किया जा रहा है. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, 26 सितंबर को गांव में सामूहिक पंचायत में पूरे मोहल्ले का बहिष्कार करने का फैसला लिया गया. आरोप है कि दंबगों ने पंचायत कर बिना शर्त शिकायत वापस लिए जाने तक बहिष्कार जारी रखने का फैसला किया है.

यह भी पढ़े -   स्पा सेंटर में शराबियों का उत्पात, लड़कियों ने लाठी-डंडों से उतारा नशा

शिकायत के अनुसार, इन 150 दलित परिवारों को ना तो खेतों में जाने दिया जा रहा है, ना ही गांव के किसी अन्य मोहल्ले में उन्हें जाने की अनुमति है और ना ही दुकानदार उन्हें सामान दे रहे हैं. गांव से बाहर जाने के लिए सवारी नहीं मिल रही. दूध और आवश्यक स्वास्थ्य सुविधाएं भी इन लोगों को नहीं मिल पा रही है. लोगों के जरूरी काम भी रुके हुए हैं.

जींद के पुलिस अधीक्षक वसीम अकरम ने बताया कि मामला पुलिस के संज्ञान में है. उचाना के एसडीएम व डीएसपी को जांच के लिए कई बार गांव भेजा जा चुका है. उन्होंने बताया कि गांव में पुलिस की तैनाती की गई है और पुलिस मामले पर नजर बनाए हुए है. दलित परिवारों का सामाजिक बहिष्कार खत्म कराने के लिए पुलिस द्वारा कार्रवाई किए जाने के सवाल पर हालांकि एसपी ने कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!