किसानों की दूसरी बड़ी जीत : अब पराली जलाने वालों पर अपराधिक मामला नहीं होगा दर्ज

करनाल । तीन कृषि कानूनों को रद्द किए जाने की मांग के बाद सरकार ने किसानों की कुछ और मांगों पर भी अपनी सहमति जताई है. इन मांगों में एमएसपी व मृतक किसानों के परिजनों को मुआवजा दिए जाने की मांग भी शामिल है. सरकार द्वारा यह मांगे मान जाने पर बतसाडा टोल प्लाजा पर आंदोलन कर रहे किसानों में भारी खुशी देखने को मिली. इस खुशी में किसानों ने मिठाई बांटी और एक दूसरे को बधाई दी. इसे किसानों की दूसरी बड़ी जीत बताया जा रहा है.

यह भी पढ़े -   सरसों तेल के दाम में गिरावट का दौर जारी, बाजार विशेषज्ञों ने जताया ये अनुमान

PRALI

किसानों ने दूसरी बड़ी जीत पर बांटी मिठाइयां 

बतसाड़ा टोल प्लाजा पर किसान पिछले 11 महीने से अधिक समय से धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. किसानों द्वारा लगातार सरकार से तीनों कृषि कानूनों को रद्द किए जाने की मांग की जा रही थी. किसानों के लंबे  संघर्ष के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की घोषणा कर दी. कैबिनेट से भी इस को मंजूरी मिल चुकी है. वहीं शनिवार को केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने पराली जलाने पर क्रिमिनल ऑफेंस ना लगाने का फैसला लिया.

साथ ही एमएसपी पर किसान संगठनों को साथ लेकर समिति बनाएजाने का भी फैसला लिया. वहीं मृतक किसानों के परिवारों को मुआवजा दिए जाने और मुकदमों को खारिज करने का फैसला राज्य सरकारों पर छोड़ दिया गया है. सरकार के इस फैसले के बाद किसानों में बेहद खुशी देखने को मिली. किसानो ने बतसाडा टोल प्लाजा पर मिठाई बाटी. वही किसान नेता हैप्पी औलख और रामपाल चहल ने कहा कि सरकार का यह फैसला किसानों की दूसरी बड़ी जीत है. किसानों के संघर्ष के कारण सरकार झुकी है और किसानों पर पराली जलाने पर दर्ज होने वाले अपराधिक मामले वापस लिए गए.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!