Kidney Stone: यहाँ पढ़े पथरी होने के मुख्य कारण, लक्षण और बचाव के तरीके

लाइफस्टाइल, Kidney Stone | किडनी सहित शरीर के किसी भी हिस्से में पथरी का बनना सामान्य है. खनिज लवण कठोर होकर पथरी का रूप धारण कर लेते हैं. पांच-छह मिमी पथरी को निकालने के लिए शायद ही कभी सर्जरी की आवश्यकता होती है. सिविल अस्पताल के प्रधान चिकित्सा अधिकारी डॉ. संजीव ग्रोवर का कहना है कि खूब पानी पिएं, रोजाना एक घंटे धूप का आनंद लें, संतुलित आहार लें, नियमित व्यायाम करें, तो पथरी बनने की संभावना न के बराबर होती है.

Stomach Pain Pet Dard

इन चार अंगों में होती है पथरी

मूत्राशय (मूत्र थैली) में गुर्दा, मूत्रवाहिनी (मूत्र नली). यह पूरा क्षेत्र पथरी निर्माण के प्रति अति संवेदनशील है. पित्ताशय की थैली में पथरी का बनना भी आम है.

चार प्रकार की होती है पथरी

सिस्टीन स्टोन: यह स्टोन उन लोगों में ज्यादा होता है जिन्हें जेनेटिक डिसऑर्डर सिस्टिनुरिया होता है.

यह भी पढ़े -   रक्षाबंधन पर भी पड़ी महंगाई की मार, 10 रुपए में मिलने वाली राखी हुई 40 से 50 रुपए की

स्ट्रुवाइट स्टोन: इस प्रकार का स्टोन ज्यादातर यूरिनरी सैक इन्फेक्शन से पीड़ित महिलाओं में पाया जाता है.

यूरिक एसिड स्टोन: यह स्टोन पुरुषों में ज्यादा होता है. पेशाब में एसिड की मात्रा ज्यादा हो तो यह बनता है.

कैल्शियम स्टोन: कैल्शियम स्टोन किडनी स्टोन में सबसे आम है. कैल्शियम ऑक्सालेट, फॉस्फेट या मैलेट से बनता है.

किडनी स्टोन के मरीज ज्यादा

गुर्दे का काम रक्त को शुद्ध करना, हार्मोन बनाना, खनिजों को अवशोषित करना, मूत्र बनाना, विषाक्त पदार्थों को निकालना, शरीर में अम्लों को संतुलित करना है. सीधे शब्दों में कहें तो यह हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है. खराब लाइफस्टाइल, खान-पान, मोटापा, कम पानी पीना किडनी की बीमारियों को बढ़ावा देता है. किडनी में स्टोन उन्हीं में से एक है.

यह भी पढ़े -   तुरंत पैरों के दर्द से छुटकारा पाने के लिए, इन घरेलू उपायों का करें इस्तेमाल

पथरी के लक्षण

  1. पेट में दर्द
  2. पेशाब करते समय दर्द होना
  3. पेशाब का पीला पड़ना
  4. पेशाब से बहुत ज्यादा बदबू आना
  5. पेशाब में खून आना
  6. उल्टी लगना

ऐसा क्या करें कि पथरी न हो

  • सुपारी न खाएं. इसका एक हिस्सा पथरी बनने का कारण बन सकता है.
  • टमाटर, चुकंदर या पालक कम मात्रा में खाएं.
  • रेड मीट का त्याग करें या बिल्कुल ही कम खाएं.
  • पालक, काजू, चाय, कॉफी का सेवन कम करें.
यह भी पढ़े -   Raksha Bandhan Special: अबकी बार रक्षाबंधन पर भद्रा का साया, इस वजह से भद्राकाल में नहीं बांधा जाता रक्षासूत्र

इन बातों का रखें ध्यान

  1. ब्लड प्रेशर-शुगर को नियंत्रित रखें.
  2. अनावश्यक दर्द निवारक दवाएं न लें.
  3. नमक और चीनी का सेवन कम करें.
  4. मांस का सेवन कम से कम करें.
  5. चॉकलेट, कोको, कोल्ड ड्रिंक, चाय कम पिएं.

 इनका भरपूर सेवन करें

  1. नारियल पानी खूब पिएं.
  2. गाजर और करेले की सब्जियां ज्यादा खाएं.
  3. केला खाएं, उसका जूस भी पिए
  4. ओट्स खाएं, इसमें एंटी स्टोन गुण होते हैं.
  5. बादाम खाएं, इसमें पोटैशियम-मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में होता है.
  6. रोजाना 10-12 गिलास पानी पिएं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!