तेज स्पीड से कार चलाने वालों की अब खैर नहीं, इस तरह होगी उन पर चालानी कार्रवाई

नई दिल्ली । भारत में सड़क दुर्घटनाओं की संख्या बाकी देशों की तुलना में ज्यादा है. बता दें कि भारत में ज्यादातर दुर्घटनाएं तेज रफ्तार और ट्रैफिक नियमों का पालन ना करने की वजह से होती है. अथॉरिटीज और पुलिस विभाग मिलकर इन दुर्घटनाओं को कम करने की लगातार कोशिश करता रहता है. इसी दिशा में अब अथॉरिटीज ने सडक पर स्पीड ब्रेकर कैमरे लगाने की शुरुआत की है. जिससे कि तेज स्पीड से चल रहे वाहनों की सूचना पुलिस तक पहुंच पाए.

यह भी पढ़े -   देश मे नहीं थम रहे डेंगू और वायरल के मामले, इन राज्यों में है सबसे ज्यादा मरीज

fotojet 18

स्पीड से वाहन चलाने वालों पर होगी कार्रवाई

यह कैमरे ऑटोमेटिक काम करते हैं और जरूरी सूचना सिस्टम तक पहुंचाते हैं. पुलिस विभाग द्वारा अभी ये कैमरे दिल्ली और हरियाणा के कुछ रास्तों पर लगाए गए है. पुलिस ने अपनी गाड़ी के पीछे एक स्पीड डिटेक्शन सिस्टम लगाया है. जिस पर तेज स्पीड से चलने वाले वाहनों की जानकारी पुलिस को प्राप्त होती है. बता दें कि इस सिस्टम की सहायता से पुलिस, स्पीड से चलने वाले वाहनों का पता करके उनका चालान काटती है.

यह भी पढ़े -   जरूरी सूचना: 16 अक्टूबर को रोहतक-गोहाना रोड रहेगा जाम, रोहतक पुलिस ने जारी की रूट एडवाइजरी

पुलिस विभाग द्वारा यह स्पीड डिटेक्शन सिस्टम मारुति सुजुकी अर्टिगा में इंस्टॉल किया गया है. जिस पर पुलिस का एक सिपाही हमेशा नजर बनाए रखता है. इस सिस्टम से तेज स्पीड से चलने वाले वाहनों की जानकारी बड़े अधिकारियों तक पहुंची है. जिसके बाद उस वाहन का आगे चालान काटा जाता है. बता दे कि तेज स्पीड से चल रहे वाहनों का ₹2000 तक का चालान काटा जाता है. साथ ही 3 महीने के लिए लाइसेंस भी रद्द किया जाता है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!