पत्रकारों से बातचीत करते हुए महिला पहलवान बबीता फोगाट के छलके आंसू, बोली किसान ऐसी हरकतें नहीं कर सकते

सोनीपत । महिला पहलवान बबीता फोगाट ने आंदोलन कर रहे किसानों से अपील की है कि वह राजनीति से दूर रहे. उन्होंने अपने गांव दादरी में प्रवेश के दौरान किए गए विरोध को गलत बताया. उन्होंने बताया कि वह बेटे के साथ गांव में आ रही थी,  तभी आंदोलनकारियों ने उनका विरोध किया गया. बबीता का कहना है कि किसान इस तरह की हरकत कभी भी नहीं कर सकते, आंदोलनकारी विपक्षियों की शह पर ऐसा कर रहे हैं.

यह भी पढ़े -   हरियाणा: ओलंपिक में खेलेंगी शाहाबाद की ये 3 बेटियां, जानिए

Babita Phogat Bjp

पत्रकार से बातचीत करते हुए भावुक हुई बबीता फोगाट

बबीता ने कहा कि किसान होते तो बातचीत का रास्ता बंद नहीं करते और जिद नहीं ठानते . भाजपा नेता बबीता ने कहा कि किसानों को अपनी जिद छोड़ कर बातचीत का रास्ता अपनाना चाहिए. कानून की कमियां बताते हुए सरकार को प्रस्ताव देना चाहिए. पत्रकार से बातचीत के दौरान बबीता उस मुद्दे को लेकर काफी भावुक हो गई. उन्होंने कहा कि जब मैंने मेडल जीता था तो किसी एक क्षेत्र या एक समाज के लिए नहीं जीता था. आज उनकी गाड़ी पर डंडे बरसाए जा रहे हैं उन्हें गालिया दी जा रही है किसान वास्तव में ऐसा नहीं कर सकते.

बबीता फोगाट को करना पड़ा था जबरदस्त विरोध का सामना

बबीता फोगाट पहलवान से नेता बनी, वह रविवार को अपने गांव जा  रही थी,तभी उन्हें कृषि कानून विरोधियों का सामना करना पड़ा. भाजपा नेता और हरियाणा महिला विकास निगम की चेयरमैन बबीता के विरोध में किसानों ने काले झंडे दिखाए और सड़क पर लेट गए. जिसकी वजह से उन्हें अपना कार्यक्रम रद्द करना पड़ा था. पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद हालात को काबू में किया था. बबीता फोगाट केंद्र की मोदी सरकार के 7साल पूरे होने पर एक कार्यक्रम में शिरकत होने गई थी . कार्यक्रम केंद्र सरकार की उपलब्धियां बताने के लिए आयोजित किया गया था.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!