Haryana Weather Update: 12 और 13 जुलाई को हरियाणा के इन जिलों में जमकर बरसेंगे बदरा, अलर्ट जारी

चंडीगढ़, Haryana Weather Update | हरियाणा में मानसून दस्तक दे चुका है और बंगाल की खाड़ी की ओर से आने वाली मानसूनी हवाओं से हरियाणा में बारिश हो रही है लेकिन प्रदेश में अब भी कुछ जिलें ऐसे हैं जहां लोग मानसूनी बारिश के इंतजार में आसमान की तरफ टकटकी लगाए बैठे हैं. हालांकि हरियाणा के उत्तरी और दक्षिणी क्षेत्रों में ज्यादातर जगहों पर और पश्चिमी हरियाणा में कुछ एक जगहों पर तेज बारिश दर्ज की गई है. बारिश के बाद जहां तापमान में गिरावट देखने को मिल रही है तो वहीं लोगों को भीषण गर्मी और उमस से भी राहत पहुंची है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा का नेकलेस होगा चीका- यमुनानगर एक्सप्रेस-वे, केन्द्र सरकार ने दी मंजूरी

BARISH 2

परिवर्तनशील बना रहेगा मौसम

चंडीगढ़ मौसम विभाग का कहना है कि हरियाणा में अब मौसम परिवर्तनशील बने रहने की संभावना नजर आ रही है. जुलाई महीने में मानसून की बारिश पूरे हरियाणा को कवर कर लेगी. इस दौरान 12 और 13 जुलाई को उत्तरी क्षेत्र यानि यमुनानगर, पंचकूला, अंबाला तथा कुरुक्षेत्र में भारी बारिश देखने को मिलेगी जबकि दक्षिण हरियाणा के जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद, पलवल, रेवाड़ी और महेन्द्रगढ़ में हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है. वहीं मौसम विभाग ने पश्चिमी हरियाणा के जिलों करनाल, पानीपत और सोनीपत में छिटपुट बूंदाबांदी होने की संभावना व्यक्त की है.

अगले 3-4 दिन जोरदार बारिश के आसार

चंडीगढ़ मौसम विभाग ने संभावना व्यक्त करते हुए कहा है कि अगले 3-4 दिनों में प्रदेश के लगभग सभी जिलों में जोरदार बारिश होने के आसार बने हुए हैं. जैसे- जैसे सावन का महीना नजदीक आ रहा है , मानसून की आहट सुनाई दे रही है. जल्द ही पूरे हरियाणा में मौसम में बदलाव होगा और झमाझम बारिश देखने को मिलेगी. मौसम परिवर्तनशील होने से अधिकतम तापमान में गिरावट दर्ज होगी और लोगों को गर्मी और उमस से राहत मिलेगी.

यह भी पढ़े -   भारत में 5G नेटवर्क आने के बाद क्या होंगे बदलाव, यहां जाने अपने सवालों का सही जवाब

वहीं मौसम विभाग का कहना है कि धान की रोपाई करने वाले किसानों के लिए यह मौसम फायदेमंद साबित होगा. अच्छी बारिश से धान की पैदावार में बढ़ोतरी होगी. बारिश होने से वातावरण में मौजूद उमस का खात्मा होगा और फसलों में बीमारियां आने की संभावना कम हो जाएगी. वहीं कृषि विशेषज्ञों ने किसानों को आगाह करते हुए कहा है कि यदि तेज बारिश से कपास की फसल में पानी का ठहराव होता है तो उसकी निकासी का उचित प्रबंध करें.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!