हरियाणा में अब नहीं जलेगा विश्व का सबसे ऊंचा 210 फीट का रावण, जानिए क्या है बड़ी वजह

अंबाला | त्यौहारी सीजन शुरू होते ही हरियाणा के एक कस्बे का नाम सबके जेहन में ताजा हो जाता है जो अपनी विशेषता के चलते दुनिया भर में प्रसिद्ध है. जी हां, अंबाला ज़िले का बराड़ा, जहां दुनिया का सबसे बड़ा रावण बनाया जाता है लेकिन अब ये परम्परा खत्म होने के कगार पर है. 210 फीट के रावण का आकार घटकर 125 फीट कर दिया गया है.

Ravan Dahan

बराड़ा रामलीला क्लब के संस्थापक तेजिंदर राणा ने बताया कि हर साल बराड़ा में 210 फ़ीट का रावण जलाया जाता है लेकिन मैदान की कमी होने के चलते अब रावण का आकार छोटा घटाकर 125 फ़ीट कर दिया गया है. उन्होंने आमजन के साथ मिलकर सरकार से गुहार लगाई है कि इस परम्परा को कायम रखने के लिए मैदान का प्रबंध किया जाए. यदि सरकार मैदान उपलब्ध कराती है तो फिर से रावण के पुतले की उंचाई 210 फीट कर दी जाएगी.

आकार घटने की ये है वजह

बता दें कि जैसे-जैसे बराड़ा शहर की आबादी बढ़ रही है वैसे-वैसे बराड़ा रामलीला मैदान भी छोटा होता जा रहा है. अब हालत यह है कि पुतले का आकार काफी छोटा करना पड़ रहा है. तेजिंदर राणा ने बताया कि अगर ऐसे ही हालात रहे तो अगले साल तक बराड़ा में रावण के पुतले का निर्माण बंद भी करना पड़ सकता है. उन्होंने कहा कि दशहरा मैदान के चारों तरफ मकान बन गए हैं.

यह भी पढ़े -   अंबाला में 12वीं के छात्र ने पढ़ाई के बोझ से परेशान होकर लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लिखी ये बात

मीडिया के सामने अपना दर्द बयान करते हुए तेजिंदर राणा ने कहा कि इस समस्या को लेकर सरकार के सामने कई बार गुहार लगा चुके हैं लेकिन बराड़ा में मैदान उपलब्ध कराने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया है. उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्य की बात है की मैदान न होने के कारण इस कार्यक्रम को बंद करना पड़ सकता है. उन्होंने बताया कि पांच बार लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड और इंडिया में भी कईं रिकॉर्ड बराड़ा के रावण के नाम है लेकिन सरकार की उपेक्षा के चलते अब यह पहचान खत्म होने जा रही है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!