सरकारी कर्मचारियों को पहननी होगी खास घड़ी, खट्टर सरकार की कर्मचारियों को स्मार्ट बनाने की तैयारी

चंडीगढ़ | हरियाणा (Haryana) के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (CM Manohar Lal Khattar) ने बीते शनिवार को सोहना के सरमथला गांव में ‘विकास’ रैली के दौरान कहा कि प्रदेश के सभी सरकारी कर्मचारी स्मार्टवॉच पहनेंगे. इस घड़ी से कर्मचारियों के ऑफिस समय के दौरान उनके काम को ट्रैक करेंगे. साथ ही अटेंडेंट लगाने का भी काम करेगी.

CM

सरकारी कर्मचारियों के बीच स्मार्टवॉच उनके वास्तविक समय के स्थान को ट्रैक करने और उपस्थिति रिकॉर्ड करने के लिए उपयोग की जाएगी. मुख्यमंत्री ने जानकारी दी कि बायोमेट्रिक उपस्थिति प्रणाली, जिसका उपयोग पहले प्रदेश के कई सरकारी कार्यालयों में उपस्थिति के लिए किया जाता था. जिसको कोरोना महामारी के कारण बंद कर दिया गया था. खट्टर ने कहा कि जल्द ही इसके लिए GPS- स्मार्टवॉच दी जाएगी.

स्मार्ट वॉच को कर्मचारियों के लिए लाने का मुख्य कारण

दरअसल, इससे प्रदेश में सरकारी अधिकारी हफ्ते में एक बार ऑफिस जाते थे और सभी कार्य दिवसों के लिए अपनी अटेंडेंट पर टिक करते थे. उन्होंने कहा कि इस प्रक्रिया को खत्म करने के लिए हमने बायोमेट्रिक मशीन पेश की. चूंकि इस प्रणाली के लिए अधिकारी को इसे फिजिकली तौर पर छूने की जरूरत थी, इसलिए हमने इसे कोरोनावायरस बीमारी के बाद हटाने का फैसला किया क्योंकि इससे वायरस फैला सकता है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा सरकार ने बड़े पैमाने पर किया आईएएस अधिकारियों का तबादला

खट्टर ने बताया कि बायोमीट्रिक मशीनों में अधिकारियों द्वारा उंगलियों के निशान से छेड़छाड़ करने और उनकी अटेंडेंट दर्ज कराने के बारे में भी सरकार सतर्क है. हम स्मार्टवॉच पेश करेंगे जो केवल उस अधिकारी को ट्रैक करेगी जिसे इसे दिया गया है. अगर कोई और इसे पहनता है तो घड़ी काम करना बंद कर देगी. इस तरह, हरियाणा में सभी सरकारी अधिकारियों की आवाजाही पर नज़र रखी जाएगी.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में मंत्रिमंडल विस्तार 4 से 17 दिसंबर के बीच होने की संभावना, सीएम जल्द ले सकते हैं फैसला

हरियाणा सरकार सरकारी कर्मचारियों के लिए स्मार्ट वॉच लेकर आएंगी जिसका उद्देश्य उपस्थिति में की जाने वाली गड़बड़ को रोकना होगा. स्मार्ट वॉच कर्मचारियों की मौजूदा लोकेशन को ट्रैक करेगी जिससे पता चल सकेगा कि कर्मचारी वास्तविक रूप में दफ्तर में मौजूद है या नही.

कर्मचारियों ने कहा है कि गोपनीयता का होगा उल्लंघन

पहले से ही पंचकुला नगर निगम और चंडीगढ़ प्रशासन में उपयोग में है. जीपीएस-सक्षम निगरानी प्रणाली ने उन श्रमिकों के विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिए हैं जिन्होंने दावा किया है कि यह उनकी गोपनीयता का उल्लंघन करता है. इसलिए कर्मचारियों द्वारा इस योजना पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

मुख्यमंत्री बोले- पहले हाजिरी के साथ छेड़छाड़ होती

2014 से पहले एक रजिस्टर में उपस्थिति दर्ज करने की मैनुअल प्रणाली का जिक्र करते हुए खट्टर ने कहा, एक कर्मचारी एक सप्ताह के बाद कार्यालय आएगा और सप्ताह में सभी दिनों के लिए टिक मार्क लगाएगा. हमने सरकारी कर्मचारियों की उपस्थिति को नियमित करने और अनुशासन लाने के लिए अपनी सरकार के गठन के बाद एक बायोमेट्रिक प्रणाली की शुरुआत की.

यह भी पढ़े -   68 साल पहले की 28 रुपए उधारी चुकाने अमेरिका से हरियाणा आया शख्स, रोचक हैं ये कहानी

इससे प्रदेश में सरकारी अधिकारी हफ्ते में एक बार ऑफिस जाते थे और सभी कार्य दिवसों के लिए अपनी अटेंडेंट पर टिक करते थे. इस स्मार्ट वॉच के जरिए हाजिरी लगाने की प्रणाली कब तक शुरू की जाएगी इस के संदर्भ में अभी कोई स्पष्ट जानकारी नहीं दी गई है इस योजना के संदर्भ में केवल ऐलान किया गया है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!