कोरोना महामारी में अंतिम संस्कार के लिए लकड़ियों का भी संकट

चंडीगढ़ । कोरोना महामारी हरियाणा के नागरिकों के लिए बहुत ही कष्टदायक सिद्ध हो रही है. कोरोना की दूसरी लहर ने सभी को झकझोर कर रख दिया है. कोरोना के कारण होने वाली मृत्यु की संख्या कम नहीं है. यहां तक कि मृत शरीरों के दाह संस्कार के लिए लकड़ियों की भी कमी पड़ गई है. इस भारी समस्या को देखते हुए अब हरियाणा का वन विभाग दाह संस्कार के लिए लकड़ियां मुहैया करवाने में जुट गया है.

यह भी पढ़े -   अंबाला में उपभोक्ताओं को स्मार्ट मीटर के लिए करना होगा इंतजार, इन वजहो से हुई देरी

narnaul corona news

हरियाणा राज्य में दाह संस्कार के लिए लकड़ियों की भारी मांग को देखते हुए हरियाणा राज्य वन विभाग की तरफ से आने वाले समय के लिए 13950 कुंटल की नई मांग की गई है. इस मांग में से 1618 कुंतल मुहैया करवाई जा चुकी है. पिछले दो हफ्तों के आंकड़ों को देखा जाए तो औसत रूप से डेढ़ सौ मौतें प्रतिदिन हो रही है. लगातार हो रही मृत्यु को लेकर दाह संस्कार के लिए लकड़ियों का भारी संकट है. इसके साथ ही दाह संस्कार का कार्य करने वाले पंडितों और नगर निगम के कर्मचारियों के अनुसार पहले जहां दो, तीन या चार दाह संस्कार होते थे अब वहां पर दर्जनों मृत शरीर संस्कार के लिए आते हैं. मृत्यु का आंकड़ा बढ़ जाने की वजह से श्मशान घाट में लकड़ियों की कमी पैदा हो गई है.

अब हरियाणा राज्य वन विभाग ने दाह संस्कार के लिए पैदा हुई लकड़ी की कमी की समस्या को दूर करने का जिम्मा उठा लिया है. राज्य के वन मंत्री के अनुसार सभी नगर पालिका और नगर परिषद और नगर निगम से लकड़ियों की मांग की गई है. पिछले 1 महीने में पूरे हरियाणा में 2580 मृत्यु हुई है. 1 महीने में कोरोना से हुई इतनी मृत्यु के बाद कुछ सामान्य मौतें भी हो रही हैं. लेकिन इन सभी मृत शरीरों के दाह संस्कार से अब लकड़ियों की समस्या हो गई है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा की लाडो ने चलाया अभियान, बच्चियां 20 जून को प्रधानमंत्री मोदी को बोलेंगी "थैंक्यू"

 

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!