फरीदाबाद शहर से दूर होगी पानी की किल्लत, सिरे चढ़ने लगी FMDA की योजना

फरीदाबाद | राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे हरियाणा के फरीदाबाद शहर में जल संकट दूर करने की दिशा में एक नई योजना पर काम शुरू किया जा रहा है. यमुना किनारे के इलाकों में ग्राउंड वॉटर बढ़ाने के लिए फरीदाबाद मैट्रोपॉलिटन डिवेलपमेंट अथॉरिटी (FMDA) की रिजर्वर (तालाब) बनाने की योजना को पंख लगने शुरू हो गए हैं. FMDA की ओर से तिलपत में पहले से ही 300 एकड़ जमीन चिह्नित कर डिफेंस मिनिस्ट्री के पास भेज दिया गया है. वहां से हरी झंडी मिलते ही तालाब बनाने का काम शुरू हो जाएगा.

Johad Talab

दूसरी तरफ, हाल ही में यमुना किनारे के दो गांवों में 40 एकड़ जमीन चिह्नित करने का काम फाइनल कर लिया है. अब FMDA की ओर से इस जमीन को खरीदने के लिए पंचायत विभाग से बातचीत चल रही है. जमीन खरीदते ही तालाब बनाने का काम शुरू कर दिया जाएगा. तालाब बनने से यमुना किनारे रेनीवेल पूरे साल रिचार्ज होते रहेंगे और शहर को पर्याप्त मात्रा में जलापूर्ति की जा सकेगी.

पूरे साल रिचार्ज होते रहेंगे रेनीवेल

FMDA की ओर से शहर में पानी की डिमांड को पूरा करने के लिए कई प्रोजेक्ट पर काम किया जा रहा है और इन्हीं में से एक यमुना के पानी से भूजल स्तर बढ़ाने की योजना है. एफएमडीए ने यमुना नदी के किनारे कुछ गांवों की पंचायती जमीन लेकर वहां गड्ढा खोदकर रिजर्वर यानि तालाब बनाने है ताकि बरसात के दिनों में यमुना में बाढ़ आने पर इन खाली तालाबों में पानी भर जाएं. जिससे आसपास जलस्तर में वृद्धि होगी और पूरे साल रेनीवेल रिचार्ज होते रहेंगे.

वर्तमान में यमुना किनारे 22 रेनीवेल लगे हुए हैं, जिनसे हर रोज शहर को 330 एमएलडी पानी की सप्लाई की जाती है जबकि शहर में रोजाना 450 एमएलडी पानी की डिमांड है.

सिरे चढ़ने लगी योजना

गर्मियों के मौसम में यमुना नदी का जलस्तर काफी कम हो जाता है जिससे ग्राउंड वॉटर काफी नीचे चला जाता है. इससे रेनीवेल रिचार्ज नहीं हो पाते और पानी की सप्लाई भी कम हो जाती है. ऐसे में ग्राउंड वॉटर बढ़ाने के लिए ही FMDA वॉटर रिजर्वर बनाने का योजना तैयार कर रहा है, जो सिरे चढ़ चुकी है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!