Guru Purnima 2022: गुरु पूर्णिमा के दिन करें ये 5 उपाय, जीवन की हर समस्या से मिलेगी मुक्ति

नई दिल्ली | इस साल गुरु पूर्णिमा 13 जुलाई बुधवार को मनाई जा रही है. इस दिन गुरुओं की पूजा की जाती है. इतना ही नहीं यह दिन अत्यंत शुभ भी होता है. इसलिए ऐसा माना जाता है कि इस दिन किये जानेवाले कुछ खास उपायों से जीवन की सभी परेशानियां दूर हो जाती है.

guru punima

क्या है गुरु पूर्णिमा का महत्व

दरअसल, पौराणिक काल के महान व्यक्तित्व महर्षि वेदव्यास जी का जन्म आषाढ़ पूर्णिमा को हुआ था. मनुष्य को सबसे पहले वेदों की शिक्षा देने वाले महर्षि वेदव्यास ही थे. इसलिए हिन्दू धर्म में उन्हें प्रथम गुरु का दर्जा दिया गया है. इसी कारण से गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा भी कहा जाता है. जानकारी हो कि महर्षि वेदव्यास ब्रह्मसूत्र, महाभारत, श्रीमद्भागवत और अट्ठारह पुराण जैसे अद्भुत साहित्यों के रचयिता है.

हिन्दू धर्म शास्त्रों की माने तो महर्षि वेदव्यास पराशर ऋषि के पुत्र थे तथा वे तीनों लोकों के ज्ञाता थे. उन्होंने वेद को चार भागों में विभाजित किया था. इसके पीछे का कारण यह था कि जो लोग बुद्धि से कमज़ोर हैं या जिनकी स्मरण शक्ति कमज़ोर है, वे लोग भी वेदों का अध्ययन कर उसका लाभ ले सकें. इन चार वेदों के नाम ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद और अथर्ववेद हैं.

यह भी पढ़े -   Vastu Tips: अब कबूतर करेगा आपको मालामाल, बस घर की इस दिशा में रखना होगा पंख

तिथि व समय

गुरु पूर्णिमा 2022: तिथि व समय

दिन: बुधवार, 13 जुलाई, 2022

तिथि: पूर्णिमा, आषाढ़ शुक्ल पक्ष

पूर्णिमा तिथि आरंभ: 13 जुलाई, सुबह 04:01:55 से

पूर्णिमा तिथि समाप्त: 14 जुलाई, सुबह 00:08:29 तक

गुरु पूर्णिमा के दिन क्या उपाय करें

पढ़ाई में बाधा: अगर आपका बच्चा पढ़ने में कमजोर है या फिर उसकी पढ़ाई में बाधा आ रही है तो उसे गुरु पूर्णिमा के दिन गाय की सेवा करनी चाहिए. ऐसा करने से पढ़ाई में आ रही समस्याएं दूर होती हैं.

यह भी पढ़े -   रक्षाबंधन से पहले इस ग्रह ने बदली अपनी चाल, जल्द चमकेगी कन्या- सिंह और मीन राशि की किस्मत

आर्थिक समस्या: अगर आपको धन की समस्या, आपकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है और लक्ष्मी नाराज हैं तो गुरु पूर्णिमा के दिन पीपल के पेड़ की जड़ में मीठा जल चढ़ाएं. ऐसा करने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं.

दांपत्य जीवन में समस्या: अगर आपके वैवाहिक जीवन में कोई समस्या हो या फिर पति-पत्नी के बीच लड़ाई – झगड़ हो घर में कलह बढ़ रहा हो तो गुरु पूर्णिमा के दिन पति और पत्नी दोनों को मिलकर चंद्र दर्शन कर चंद्रमा को दूध का अर्घ्य देना चाहिए. इससे मानसिक शांति मिलेती है और कलह दूर होता है.

यह भी पढ़े -   कल शुक्र करने वाले हैं राशि परिवर्तन, इन राशि के जातकों की बढ़ने वाली है मुसीबतें

सौभाग्य की प्राप्ति: अगर आपका भाग्य साथ नहीं दे रहा है. आपके बनते काम भी बिगड़ जाते हैं तो गुरु पूर्णिमा की शाम को तुलसी के पौधे के पास घी का दीपक जलाएं. इससे भगवान विष्णु की कृपा बनी रहती है और हर बाधा दूर होती है.

कुंडली में गुरु दोष: अगर आपकी कुंडली में गुरु दोष है और आप अपनी जीवन में कोई सही फैसला नहीं ले पा रहे हैं तो इस दोष से मुक्ति पाने के लिए गुरु पूर्णिमा के दिन “ऊँ बृं बृहस्पतये नमः” मंत्र का 108 बार जाप करें. इससे आपका ज्ञान बढ़ेगा और हर समस्या दूर होगी.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!