टिकरी बॉर्डर का रास्ता खुलने का आधा अधूरा फैसला, केवल 5 फुट रास्ता ही खोला जाएगा.

बहादुरगढ़ | टिकरी बॉर्डर का रास्ता एक तरफ से 5 फुट खोलने पर किसानों और दिल्ली-हरियाणा पुलिस प्रशासन में सहमति बन गई है. टिकरी बॉर्डर पर एंबुलेंस, दोपहिया वाहन एवं पैदल यात्रियों के लिए एक तरफ से पांच फुट का रास्ता दीया जाएगा. जबकि गाड़ियों के आवागमन पर प्रतिबंध रहेगा.

kisan

टिकरी बॉर्डर खुलने की पूरी जानकारी

3 कृषि  कानून के विरोध में पिछले 11 महीने से प्रदर्शन कर रहे हैं बीच मेंपुलिस द्वारा बैरिकेड लगाकर टिकरी बोर्ड के मार्ग को बंद कर दिया गया था. इसका कारण था कि कहीं किसान दिल्ली की ओर ना आ जाए. आज आज दिल्ली हरियाणा पुलिस प्रशासन और किसानों के बीच सहमति से टिकरी बॉर्डर पर 5 फुट का मार्ग खोला गया है जो विशेष कर दो पहिया वाहन एंबुलेंस और पैदल यात्रियों के लिए खोला गया है. गाड़ियों के आवागमन पर अभी रोक जारी रहेगी. टिकरी बॉर्डर का माल सुबह 7 बजे से शाम 8 बजे तक खुला रहेगा इसका फैसला किसानों ने बैठक कर लिया वही गाड़ियों के आगमन को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक के बाद फैसला हो सकता है.

यह भी पढ़े -   सीएम की पीएम से मीटिंग, आज हो सकती है कृषि कानूनों पर चर्चा

दिल्ली और हरियाणा पुलिस प्रशासन के साथ बैठक में टिकरी बॉर्डर को एक तरफ से खोलने के लिए आंदोलनकारियों ने 5 फुट की शर्त रखी थी शनिवार को दोनों पक्ष में सहमति बन गई जिसके फलस्वरूप आज 5 फुट का मार्ग पैदल यात्रियों एंबुलेंस एवं दोपहिया वाहनों के लिए खोला जाएगा.

पहले टिकरी बॉर्डर से एक तरफ की एक लैंन खोलने के लिए शुक्रवार देर रात चल रही पुलिस के प्रयासों का विरोध कुछ किसानों ने कर दिया था जैसे ही दिल्ली पुलिस ने आखिरी बैरिकेडिंग लेयर हटाई तो आंदोलनकारियों ने उसका विरोध किया. जेसीबी के सामने लेट गए और लोहे की खुद की बैरिकेडिंग लगाकर मार्ग को बंद किया.लेडीज जूता ली गई और ऐलान कर दिया गया कि वे अब बॉर्डर नहीं खुलने देंगे चाहे कुछ भी हो जाए आंदोलनकारी बोले की अब तक तो वे 5 फुट का मार्ग दे रहे थे लेकिन अब वह भी नहीं दिया जाएगा.

यह भी पढ़े -   हांसी को प्रशासनिक जिला बनाने की कवायद हुई तेज, इन क्षेत्रों को किया जा सकता है शामिल

रात के समय भारतीय किसान यूनियन के नेता बूटा सिंह नहीं है कहां की किसान किसी हालत में टिकरी बॉर्डर रास्ता नहीं खुलने देंगे अब तो सभी बॉर्डर तभी को लेंगे जब आंदोलन खत्म हो जाएगा चाहे कुछ भी हो जाए रास्ता नहीं खोला जाएगा उन्होंने कहा कि हमने दिल्ली में हरियाणा पुलिस के साथ बैठक में 5 फुट चौड़ा रास्ता देने पर सहमति जताई थी शनिवार को सुबह 10:00 बजे रास्ता खुला था मगर रात में पुलिस ने बैरिकेड हटाकर वादा तोड़ा है.

यह भी पढ़े -   खुशखबरी: 5 लाख छात्रों को टैबलेट बांटेगी हरियाणा सरकार, जानें किनको मिलेगा लाभ

इसलिए अब किसी भी समझौता को नहीं माना जाएगा. अब 6 नवंबर को संयुक्त मोर्चा की बैठक में ही फैसला होगा शुक्रवार शाम को प्रशासन और अधिकारियों की बैठक में यह भी तय हुआ था कि शनिवार को सुबह 10:00 बजे एसडीएम भूपेंद्र सिंह टिकरी बॉर्डर पर स्थिति का जायजा लेंगे.

अंत में पुराने फैसले पर ही सहमति बनी और टिकरी बॉर्डर पर 5 फुट के मार्ग को खोलने वाली पुरानी सहमति पर किसान और पुलिस प्रशासन मान गए हैं. यह फैसला लिया गया की टिकरी बॉर्डर को खोल दिया जाएगा केवल एंबुलेंस और दोपहिया वाहनों के लिए रास्ता सुबह 7:00 बजे से शाम 8:00 बजे तक खोला जाएगा.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!