WHO: 2022 में कोरोना महामारी हो जाएगी खत्म लेकिन, इस कंडीशन को करना होगा पूरा

नई दिल्ली । कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन (Omicron) के तेजी से बढ़ते मामले देश-दुनिया को डरा रहें हैं. लेकिन इन सबके बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख डॉ ट्रेडस अधनोम ने दुनिया को राहत भरी खबर देते हुए कहा है कि 2022 कोरोना (Corona) महामारी के लिए अंतिम वर्ष साबित हो सकता है. लेकिन इसके लिए विकसित देशों को अपने वैक्सीन दूसरे देशों के साथ साझा करने होंगे.

corona

WHO के निदेशक ने यकीन जताते हुए कहा कि साल 2022 में कोरोना महामारी का खात्मा हो जाएगा, लेकिन संकीर्ण राष्ट्रवाद और वैक्सीन के जमाखोर इसमें मुश्किलें खड़ी कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि वैक्सीन की असामनता ने ही कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के पनपने के लिए आदर्श परिस्थितियों का माहौल तैयार किया. डॉ ट्रेडस ने कहा कि वैक्सीन की असमानता जितनी ज्यादा होगी,उसी तेजी से वायरस के विकसित होने की संभावना बढ़ेगी और हम इसका अंदाजा भी नहीं लगा सकते हैं.

ताजा आंकड़ों के मुताबिक दुनिया के कई पिछड़े देशों जैसे बुरुंडी, डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कोन्गो, चाड और हैटी में पूरी तरह से वैक्सीनेट लोगों की आबादी का आंकड़ा 1% से भी कम हैं जबकि उच्च आय वाले देशों में यह आंकड़ा 70% के पार पहुंच चुका है. डॉ ट्रेडस अधनोम ने कहा कि इस असमानता से निपटने के बाद ही हम पहले की तरह खुशहाल जीवन की कल्पना कर सकते हैं.

यह भी पढ़े -   SBI बैंक के ग्राहकों के लिए अच्छी खबर: बैंक ने शुरू की यह नई सर्विस, सभी ग्राहकों को होगा फायदा

अपने बयान में डॉ ट्रेडस ने कहा कि असमानता को मिटा कर ही हम इस महामारी पर काबू पाने में सफल हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि COVAX , WHO और हमारे सहयोगी दुनियाभर में उन लोगों के लिए वैक्सीन, टेस्ट और इलाज को आसान बनाने पर जोर दे रहे हैं जिसकी उन्हें जरुरत है.

यह भी पढ़े -   CTET की Answer Key हुई जारी, इस लिंक के जरिये ऐसे करें डाउनलोड

पूरी दुनिया में तेजी से फैल रहें कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर डॉ ट्रेडस ने कहा कि ताजा आंकड़ों के मुताबिक अस्पतालों में भर्ती कोविड-19 के 80% से ज्यादा केस वो है , जिन्हें बूस्टर डोज नहीं दिया गया है. यूके हेल्थ सेक्रेटरी एजेंसी (UKHSA) के मुताबिक, अस्पताल में दाखिल म्यूटेंट स्ट्रेन के 815 मामलों में से 608 को वैक्सीन का बूस्टर डोज नहीं दिया गया है. नया डेटा बताया है कि बूस्टर डोज से कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर भी अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम 88% तक कम हो सकता है.

यह भी पढ़े -   SBI बैंक के ग्राहकों के लिए अच्छी खबर, बैंक ने फिर बढ़ाई FD पर ब्याज दरें

UKHSA द्वारा जारी डेटा के मुताबिक अगर आपने अभी तक वैक्सीनेशन नहीं करवाया है तो आपके अस्पताल में भर्ती होने की संभावना 8 गुणा तक बढ़ जाती है. इसलिए जिन लोगों ने अभी तक कोरोना वैक्सीन की डोज नहीं ली है, उन्हें तुरंत वैक्सीन लगवानी चाहिए.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!