हवाई जहाज में शराब पीने पर होती है ये कार्रवाई, यहां जानिए पूरी गाइडलाइन

नई दिल्ली | हवाई जहाज को लेकर हमेशा हमारे मन में कई सवाल होते हैं. इनमें से मुख्य सवाल क्या एयरलाइंस नशे में किसी यात्री को उतार सकती है? क्या होगा अगर यात्री केबिन क्रू के साथ दुर्व्यवहार करते हैं. तो चलिए आज आप जानेंगे कि क्या विमान में शराब पीने पर एयरलाइंस यात्रियों को यात्रा करने से रोक सकती है. हवाई यात्रा में यात्रियों के व्यवहार के संबंध में क्या नियम हैं.

PLANE

शराब पीने और बुरे व्यवहार के संबंध में ये है नियम

नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) सरकार का एक नियामक निकाय है, जो नागरिक उड्डयन को नियंत्रित करता है. यह मुख्य रूप से विमान दुर्घटनाओं और अन्य घटनाओं की जांच करता है.

डीजीसीए भारतीय विमान नियम, 1937 के प्रावधान 22, 23 और 29 के प्रावधानों के तहत यात्रियों को यात्रा करने से रोक सकता है और उन्हें दंगा, अत्यधिक शराब पीने या गाली देने के लिए विमान से उतार सकता है. प्रावधान 22 में कहा गया है कि किसी चालक दल के सदस्य के साथ मारपीट या धमकी, चाहे वह शारीरिक या मौखिक रूप से हो, उस चालक दल के सदस्य के कर्तव्य में हस्तक्षेप करने वाला माना जाएगा. ऐसा करने से यात्री को विमान में चढ़ने से रोका जा सकता है. विमान में सुरक्षा उपायों का पालन करने से इंकार करना भी इसी श्रेणी में आता है.

प्रावधान 23 में कहा गया है कि जो यात्री शराब या नशीली दवाओं के प्रभाव में है और वह विमान या किसी भी व्यक्ति की सुरक्षा को खतरे में डालता है, तो उसे उतारा जा सकता है.

यह भी पढ़े -   दिल्ली में पुरानी गाड़ी कबाड़ में बेचने पर होगी बल्ले-बल्ले, नई खरीदने पर मिलेगा भारी डिस्काउंट

क्या ये नियम विदेशों में भी लागू होंगे?

ये नियम भारत आने वाली सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर लागू होंगे. अगर घटना विदेश में हुई और एयरलाइंस भी विदेशी हैं तो ये नियम लागू नहीं होंगे.

विमान में हुडदंग करने के मामलों में कौन कार्रवाई करता है?

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता विराग गुप्ता का कहना है कि ऐसे मामलों में कार्रवाई जगह के हिसाब से तय होती है. हवाई अड्डे की घटना पर संबंधित पुलिस स्टेशन या जिम्मेदार सुरक्षा एजेंसी. हवाई अड्डे पर खड़े विमानों पर डीजीसीए, संबंधित देश के कानून के आधार पर किसी देश के हवाई क्षेत्र के भीतर हैं, अगर अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष में 12 नॉटिकल मील से आगे कोई विमान है तो कई देशों के कानून लागू हो सकते हैं.

  • जहां विमान पंजीकृत है
  • विमान कहाँ जा रहा है
  • जिस देश से पीड़िता संबंधित है
  • जिस देश का आरोपी व्यक्ति है
  • जिस देश के चालक दल और कर्मचारी संबंधित हैं

क्या कोई अंतरराष्ट्रीय नियम भी हैं?

अंतरराष्ट्रीय मामलों में विभिन्न देशों के बीच समन्वय स्थापित करने और ऐसे अपराधों को रोकने के लिए अंतर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन (आईसीएओ) का गठन किया गया है. इसके तहत कई अंतरराष्ट्रीय संधियां की गई हैं.

  • 1944 शिकागो संधि
  • 1963 टोक्यो संधि
  • 1958 जिनेवा संधि – इसके अनुसार अंतरराष्ट्रीय सीमा निर्धारित की जाती है.
  • 1971 मॉन्ट्रियल संधि
  • 1979 न्यूयॉर्क संधि
यह भी पढ़े -   रेलवे ने प्लेटफार्म टिकट का दाम किया दोगुना, इन स्टेशनों पर आदेश लागू; यहाँ देखें लिस्ट

इसे कुछ उदाहरणों से भी समझा जा सकता है. उदाहरण के लिए 2013 में पाकिस्तान एयरलाइंस के पायलट ने बहुत अधिक शराब पी ली और उसके खिलाफ यूके के कानून के अनुसार कार्रवाई की गई. अपहरण के मामलों में, आरोपी, पीड़ित, जहाज और कर्मचारियों के अनुसार, सभी देश अपने कानून के अनुसार कार्य करने का प्रयास करते हैं और विवाद के मामले में, अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) में निर्णय लिया जाता है.

2017 में नो फ्लाई लिस्ट के तहत भारत में कार्रवाई शुरू हुई, जिसके लिए डीजीसीए को रेगुलेटर बनाया गया है.

क्या ऐसे यात्री को हवाई यात्रा करने से सरकार रोक सकती है?

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने 2017 में नई गाइडलाइंस जारी करते हुए दुर्व्यवहार करने वाले यात्री को नो-फ्लाई लिस्ट में डालने को कहा था. यह व्यवस्था दुनिया के कई देशों में लागू है. इसमें दुर्व्यवहार या हिंसा करने वाले हवाई यात्रियों को नो फ्लाई लिस्ट में डाल दिया जाता है. इस सूची में होने का मतलब है कि वह व्यक्ति उस एयरलाइन में दोबारा यात्रा नहीं कर सकता है. यह प्रतिबंध लंबे समय के लिए या कुछ वर्षों या महीनों के लिए हो सकता है.

भारत के नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने बुरे व्यवहार को 3 श्रेणियों में बांटा है. इसके तहत प्रतिबंध की सीमा 3 महीने से लेकर 2 साल तक या अनिश्चित काल के लिए भी हो सकती है.

  1. अनुचित इशारे, गाली-गलौज और शराब पीना। ऐसा करने वाले यात्रियों पर तीन महीने का प्रतिबंध लगाया जा सकता है.
  2. शारीरिक रूप से अपमानजनक व्यवहार जैसे धक्का देना, लात मारना, अनुचित स्पर्श करना. ऐसा करने वाले यात्रियों पर 6 महीने का प्रतिबंध लगाया जा सकता है.
  3. विमान को नुकसान पहुंचाना, किसी को जान से मारने की धमकी देना और हमला करना जैसे अपराध शामिल हैं. ऐसा करने वाले यात्रियों को कम से कम 2 साल या अनिश्चित काल के लिए प्रतिबंधित किया जा सकता है.
यह भी पढ़े -   आज होगा भारत VS साउथ अफ्रीका का दूसरा T20 मैच, इस मैदान पर रोहित शर्मा और कोहली बना चुके है रिकॉर्ड

इसके लिए पायलट-इन-कमांड को इसकी शिकायत एयरलाइन अधिकारियों से करनी होगी. फिर एक आंतरिक समिति 10 दिनों में इसकी जांच करती है. उसके बाद यात्री के व्यवहार की गंभीरता का फैसला किया जाता है. ऐसे लोगों पर 10 दिन का प्रतिबंध लगाया जा सकता है. जबकि जांच के नतीजे आने के बाद एयरलाइन उस शख्स को नो-फ्लाई लिस्ट में डाल सकती है.

क्या विदेश में किसी घटना की जांच नागरिक उड्डयन मंत्रालय कर सकता है?

कोई जवाब नहीं है क्योंकि यह घटना न तो भारत में हुई और न ही यह विमान भारत का था. ऐसे में भारत का उड्डयन मंत्रालय इस मामले की जांच नहीं कर सकता है. अगर विमान भारत से है या भारत आ रहा है, तो नागरिक उड्डयन मंत्रालय इसकी जांच कर सकता है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!